- अफवाहों पर हुए हलकान, बेटी के लिए रोकर बेहाल हुए परिजन

- अंतिम लोकेशन के आधार पर लापता की जानकारी जुटा रही पुलिस

GORAKHPUR: चौरीचौरा एरिया में घर से ऑफिस जाते हुए लापता हुई युवती का सुराग नहीं लग सका है. युवती के गायब होने पर अनहोनी की आशंका में परिजन रो-रोकर बेहाल हो गए हैं. बुधवार को दिनभर पुलिस टीम, परिजन और रिश्तेदार अफवाहों पर हलकान होते रहे. जंगल, ताल-तलैया सहित कई जगहों पर उसकी तलाश की गई. लेकिन कोई जानकारी नहीं मिल सकी. दो संदिग्ध युवकों सहित छह लोगों से पुलिस पूछताछ कर रही है. पुलिस का दावा है कि जल्द ही युवती का पता लगा लिया जाएगा. क्राइम ब्रांच की टीम मामले की छानबीन में जुटी है.

स्कूल कैमरे में मिली फुटेज, लास्ट लोकेशन का आसरा

चौरीचौरा, महुआ बुजुर्ग निवासी अनिल पांडेय एक स्कूल में टीचर हैं. हरिओम नगर मोहल्ले में रहने वाले अनिल की दूसरे नंबर की बेटी काजल भोपा बाजार में एक मोबाइल कंपनी के ऑफिस में काम करती थी. मंगलवार की सुबह उसने पिता से कहा कि ऑफिस का माहौल ठीक नहीं रहता है इसलिए हिसाब किताब के बाद वह काम छोड़ देगी. पिता के अनुसार करीब सवा 10 बजे वह घर से निकली. 11 बजकर 43 मिनट पर उसके मोबाइल से अनिल को व्हाट्सअप मैसेज भेजा गया. शाम को जब पिता ने मैसेज देखा तो वह परेशान हो गए. किसी जंगल में पेड़ों के बीच में काजल पड़ी थी. उसके मुंह में कपड़ा ठूंसा हुआ था. जबकि आंख और दोनों हाथ भी बंधे नजर आए. सिर में चोट से कपड़ों पर खून पसरा नजर आया. साथ ही बदला लेने के बारे में एक मैसेज भी लिखा हुआ था. पिता की तहरीर पर केस दर्ज करके पुलिस छानबीन में जुट गई. नौ बजकर 35 मिनट पर वह सेंट्रल स्कूल के सीसीटीवी कैमरे के सामने से गुजरती हुई गंगा प्रसाद स्मारक इंटर कॉलेज की तरफ बढ़ गई. लेकिन वह ऑफिस नहीं पहुंची. इसके पहले ही वह रास्ते से लापता हो गई थी. कानों में लगे ईयर फोन से वह किसी से बात करती हुई आगे बढ़ रही थी.

मोबाइल की बातचीत का सहारा, जंगलों में भटकी पुलिस

पुलिस की छानबीन में सामने आया कि मोबाइल कंपनी में काम करने वाली युवती ऑफिस में भी मोबाइल पर कुछ लोगों से बात करती थी. अक्सर वह 15 से 20 दिन तक काम करती थी. इस माह उसका कुल वेतन 7500 रुपए बना था. युवती का पता लगाने के लिए पुलिस मोबाइल ऑफिस में काम करने वाले कर्मचारियों सहित छह लोगों को हिरासत में लिया. उसके भाई के साथ पुलिस की एक टीम देवरिया स्थित रिश्तेदारी में भी गई. जबकि जंगल तिनकोनिया, कुसम्ही जंगल, चौरीचौरा, नौआबारी, देवरिया के पास जंगलों में पुलिस और रिश्तेदार युवती की तलाश में जुटे रहे. युवती की जान पहचान के दो युवकों के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है.

प्रीप्लांड गेम में उलझती जा रही कहानी, नहीं मिले सुराग

युवती की फोटो जिस अंदाज में भेजी गई है. वह पूरी तरह से सोची-समझी साजिश है. फोटो में युवती के माथे से बह रहे खून को लेकर भी संदेह जताया जा रहा है. लेकिन कोई क्लू न मिलने से पुलिस भी उलझती जा रही है. हालांकि जांच में इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि वह अपनी मर्जी से गई है. युवती के बैठने के तौर-तरीके और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस पूरी तरह से आश्वस्त है. बाद में किसी तरह की अनहोनी की आशंका में अहतियात बरतते हुए पुलिस ने आसपास के जिलों को अलर्ट कर दिया है. उधर बुधवार को पीडि़त परिवार से मिलकर डॉ. केसी पांडेय ने ढांढस बंधाया. पुलिस अधिकारियों से बात करके उन्होंने घटना के पर्दाफाश की मांग की.