-बीएससी नर्सिग का मामला, यूनिवर्सिटी के पास नहीं है दूसरा ऑप्शन, खतरे में स्टूडेंट्स का फ्यूचर

-वीसी ने दिया आश्वासन-गलत एलॉटमेंट वाले स्टूडेंट्स की वापस होगी फीस

GORAKHPUR: डीडीयू गोरखपुर यूनिवर्सिटी में जिम्मेदारों की चूक से स्टूडेंट्स के सामने मुश्किल आ खड़ी हुई है और उनके फ्यूचर की राह तंग हो गई है. बीएससी नर्सिग के लिए सिर्फ ग‌र्ल्स कॉलेज होने के बाद भी उन्होंने ब्वॉएज से फॉर्म भरवा लिए. बात यही नहीं खत्म हुई, बल्कि इन स्टूडेंट्स का एग्जाम भी कंडक्ट कराया गया और इनके मा‌र्क्स डिक्लेयर कर उनकी मेरिट भी तय हुई. यही नहीं जिम्मेदारों ने उन्हें कॉलेज तक अलॉट कर दिया. मामला तब खुला जब स्टूडेंट्स कॉलेज में एडमिशन लेने के लिए पहुंचे और वहां के जिम्मेदारों ने उन्हें ग‌र्ल्स कॉलेज में एडमिशन न होने की बात कहकर वापस लौटा दिया. अब स्टूडेंट्स बार-बार जिम्मेदारों के पास भटक रहे हैं, लेकिन उनकी समस्या का कोई समाधान नहीं हो पा रहा है.

करीब एक दर्जन स्टूडेंट हैं प्रभावित

गोरखपुर यूनिवर्सिटी के जिम्मेदारों की लापरवाही से करीब एक दर्जन स्टूडेंट्स का साल बर्बाद होने के कगार पर है. यूनिवर्सिटी के पास दूसरा ऑप्शन न होने की वजह से वह कहीं एडमिशन भी नहीं दे पा रहे हैं. ऐसे में वीसी प्रो. वीके सिंह का कहना है कि जो ऐसे हैं, जिनका यूनिवर्सिटी की गलती से ग‌र्ल्स कॉलेज में अलॉटमेंट हो गया है, यूनिवर्सिटी और एफिलिएटेड कॉलेज में उस कोर्स का कोई अल्टरनेट या ऑप्शन न होने की वजह से उन स्टूडेंट्स की फीस यूनिवर्सिटी वापस कर देगी.

वर्जन

जिन स्टूडेंटस का गलती से एलाटमेंट हो गया था, इनकी फी वापस की जाएगी. प्रशासनिक चूक से ऐसा हुआ है.

प्रो. वीके सिंह, कुलपति, डीडीयूजीयू