- घर में बच्चों का बेस मजबूत करने में लगे पेरेंट्स

- तो वहीं खाली वक्त में हो रही है कुकिंग और काइट फ्लाइंग

कोरोना वायरस को लेकर गोरखपुर में लॉक डाउन किया जा चुका है। सभी एजुकेशनल इंस्टीट्यूशंस बंद हैं, तो ऑफिस और कोचिंग पर भी ताला लटक गया है। इनसे छूटे लोग पिछले कई दिनों से घर पर हैं और अपने सभी पेंडिंग व‌र्क्स को भी निपटा चुके हैं, ऐसे में अब वह टाइमपास के नए तरीकों को अपनाने में लग गए हैं, जहां बच्चों का बेस मजबूत करने की फिक्त्र ने लोगों को टीचर बना दिया है, तो वहीं कुछ काम करने की चाहत ने किचन तक का रास्ता दिखा दिया है, जिसमें जाकर वह अपना शौक पूरा कर फैमिली को भी रेस्ट का मौका दे रहे हैं। इतना ही नहीं, जो बच्चे अपने ननीहाल में पहुंच गए हैं, वहां ग्रैंड फादर और मदर उन्हें बहलाने की तरकीबें निकालने में जुट गई हैं।

घर पर पाठशाला के साथ टाइमपास

गोरखपुर में बच्चों की फेवरेट कोचिंग गुरुकुल पाठशाला के डायरेक्टर सुरेंद्र प्रताप चौधरी भी इन दिनों घर पर ही सर्विस देने में लग गए हैं। जहां बच्चों को उनके खाली वक्त में पढ़ाई कराकर उनकी नींव को और मजबूत करने में लगे हैं, तो वहीं बच्चों के साथ ही फैमिली की मनपंसद डिश खुद तैयार कर रहे है। इस तरह से जहां उनको टाइमपास को खूब मौका मिल रहा है, तो वहीं इसकी वजह से घर वालों को भी आराम मिल जा रहा है। सुरेंद्र की मानें तो उन्हें कुकिंग का शौक है और पढ़ाई के दिनों में एक से बढ़कर एक डिश तैयार की है, उन्हें अब वही दिन याद आ रहे हैं और उससे बेहतर खाना और डिश पकाने की कोशिश में वह लग गए हैं।

कॉलेज से छुटकारा, तो बच्चों को टाइम सारा

दिन भर बच्चों के बीच घिरे रहने वाले पैसिफिक कॉलेज के डायरेक्टर सैयद हबीब को भी मस्ती का खूब मौका मिला हुआ है। अपनी ग्रैंड डॉटर के साथ अब वह हर पल को खूब एंज्वाय करने में लग गए हैं। बच्ची की जिद पर जहां उन्हें खूब पतंग के पेंच लड़ाए, तो वहीं उसके फेवरेट कार्टून का लुत्फ भी साथ बैठकर उठाया। हबीब की मानें तो कुछ दिनों दुनियावी टेंशन से दूर उन्हें अपनी फैमिली संग वक्त बिताने का मौका मिला है, जिसे वह किसी भी हाल में खोना नहीं चाहते हैं। इसलिए उन्होंने बाहर जाने पर पूरा ब्रेक लगा दिया है और फैमिली के संग मस्ती के हर पल में वह पूरी तरह शरीक हो रहे हैं।

Posted By: Inextlive