शहर में जाम से हांफे लोग, दिन भर रहे हलकान

कोआर्डिनेशन की कमी का खामियाजा भुगती पब्लिक

GORAKHPUR: शहर की यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के नए कप्तान के फरमान को दूसरे दिन मातहतों ने मजाक बना दिया. शहर में दिनभर ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त रही. चौराहों पर ट्रैफिक व्यवस्था संभालने में लगे ट्रैफिक दरोगाओं, दीवान और होमगार्ड्स के बीच को-आर्डिनेशन के अभाव में लोगों ने देर शाम तक परेशानी झेली. कूड़ाघाट तिराहा से लेकर यूनिवर्सिटी चौक तक करीब ढाई किलोमीटर तक सफर करने में लोगों को तीन घंटे से अधिक का समय लग गया. रास्ते में फंसे लोगों ने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट को फोन कर जाम की दुर्दशा से अवगत कराया. उधर, शहर के विभिन्न हिस्सों में वाहनों के रेंगने से जाम में फंसे लोग परेशान रहे.

मोहद्दीपुर में ट्रैफिक ज्यादा प्रभावित

शहर के विभिन्न हिस्सों में कंस्ट्रक्शन से संबंधित काम चल रहे हैं. नंदानगर से लेकर मोहद्दीपुर तक सड़क के चौड़ीकरण, पोल की शिफ्टिंग और सीवर लाइन के निर्माण की जानकारी होने के बावजूद ट्रैफिक कंट्रोल को लेकर कोई तैयारी नहीं की गई थी. इससे सोमवार को कूड़ाघाट की तरफ से शहर में आने वाले लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ी. एक तरफ जहां मिस मैनेजमेंट ने लोगों को हलकान किया. वहीं, दूसरी तरफ मोहद्दीपुर चौराहे पर ड्यूटी में तैनात पुलिस कर्मचारियों के बीच तालमेल का अभाव नजर आया. एक होमगार्ड जहां ट्रैफिक चलने के लिए इशारा कर रहा था तो दूसरी ओर खड़ा कर्मचारी ट्रैफिक बंद कर देता था. इससे चारों और से आने वाले पहले आगे निकलने की होड़ में जूझते रहे. को-आर्डिनेशन की कमी से मोहद्दीपुर से लेकर कूड़ाघाट तक दिनभर ट्रैफिक ध्वस्त रहा. जबकि, सोमवार को सबसे ज्यादा ट्रैफिक प्रेशर रहता है. इसको लेकर पहले से कोई तैयारी नहीं की गई थी.

यहां दिन भर परेशान हुए लोग

कूड़ाघाट मोड़ से लेकर यूनिवर्सिटी चौक

टीपीनगर से पैडलेगंज- मोहद्दीपुर

गोलघर काली मंदिर से शास्त्री चौक

गोरखनाथ रोड पर बरगदवां तक जाम

मोहद्दीपुर चार फाटक से लेकर पैडलेगंज तक

खचांजी चौक से लेकर असुरन चौक

छात्रसंघ चौराहे से लेकर पैडलेगंज, अंबेडकर चौक

इन वजहों से लगा जाम

-सोमवार के दिन अतिरिक्त किसी तरह की व्यवस्था नहीं की गई

-ट्रैफिक व्यवस्था में लगे कर्मचारियों के बीच कोआर्डिनेशन का अभाव

-सड़कों पर कंस्ट्रक्शन वर्क जारी होने के बावजूद एहतियात की कमी

-वीवीआईपी मूवमेंट के दौरान वैकल्पिक व्यवस्था का भारी अभाव

-भीड़ वाले रास्तों पर रूट डायवर्जन की कमी से ट्रैफिक जाम लगा