- वर्चुअल व स्मार्ट क्लासेस के साथ, बेहतर साइंस व कम्प्यूटर लैब की सुविधा

- सेकंड शिफ्ट में स्किल डेवलपमेंट की क्लास होगी संचालित

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए अब हर जोन में स्थित एक राजकीय स्कूल को मॉडल स्कूल में बदला जाएगा. इस स्कूल को पं. दीन दयाल उपाध्याय मॉडल स्कूल के तर्ज पर विकसित किया जाएगा. इसके लिए प्रदेश सरकार जल्द ही बजट की व्यवस्था करेगी. यह जानकारी प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और माध्यमिक शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बुधवार को राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम में दी. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार की कोशिश है कि राजकीय स्कूलों के खोए हुए गौरव को दोबारा से वापस लौटाया जाएं ताकि वह बेहतर प्रदर्शन कर रहे प्राइवेट स्कूलों से कड़ा मुकाबला कर सकें.

वर्चुअल व स्मार्ट क्लास से लैस होंगे स्कूल
डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि इन स्कूलों को वर्चुअल व स्मार्ट क्लासेस से लैस किया जाएगा. साथ ही यहां व‌र्ल्ड क्लास साइंस व कम्प्यूटर लैब भी बनाई जाएगी. इसके अलावा इन स्कूलों में बेहतर लाइब्रेरी की भी व्यवस्था की जाएगी. उन्होंने कहा कि हमारे शिक्षक दूसरे स्कूलों के शिक्षकों से काफी बेहतर हैं. इन मॉडल स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों को सरकार की ओर से हर संभव संसाधन और सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी. ताकि वह बेहतर रिजल्ट दें सकें. इसके अलावा इन स्कूलों में बिल्डिंग और दूसरी चीजों की कमी को दूर करने के लिए भी सरकार अलग से बजट मुहैया कराएगी.

सेकंड शिफ्ट में स्किल डेवलपमेंट की क्लासेस
डॉ. शर्मा ने कहा कि इन मॉडल स्कूलों में दो शिफ्ट में क्लासेस का संचालन किया जाएगा. इसके अलावा इन स्कूलों में प्रधानमंत्री कौशल विकास मिशन का सेंटर स्थापित होगा, जहां पहले शिफ्ट में रेगुलर क्लासेस का संचालन होगा. वहीं दूसरे शिफ्ट में कौशल विकास मिशन के तहत स्टूडेंट्स को स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग की जाएगी. जिससे स्टूडेंट्स इन स्कूलों से जब पढ़ाई करके निकलें तो उसके हाथों में पहले से एक हुनर मौजूद हो. उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में केंद्र सरकार की ओर से कौशल विकास के केंद्र खोले जाने हैं, इन केंद्रों की स्थापना इन मॉडल स्कूलों में कराने के लिए सरकार एक विशेष कार्य योजना भी तैयार करेगी.