- जिन इलाकों में लंबे समय तक रहा जल-जमाव उनका अध्ययन होगा

- अध्ययन से प्राप्त नतीजों के आधार बनाई जाएगी विस्तृत कार्य योजना

- 14 अक्टूबर को मुख्यमंत्री अधिकारियों के साथ करेंगे समीक्षा बैठक

PATNA

: पटना में जलजमाव क्यों हुआ, इसके कारणों का पता लगाने के लिए सरकार ने इसका अध्ययन कराने का फैसला किया है. अध्ययन में आए नतीजों के आधार पर भविष्य में ऐसी चुनौती से निपटने और पटना को जल जमाव से मुक्त कराने के लिए एक्शन प्लान बनेगा. इससे पहले इस विषय पर 14 अक्टूबर को नगर विकास विभाग, आपदा प्रबंधन विभाग के साथ ही दूसरे कार्य विभागों की बैठक बुलाई गई है. बैठक की अध्यक्षता खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे. यह जानकारी मुख्यसचिव दीपक कुमार ने दी.

मुख्यसचिव ने बताया कि प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी को देखते हुए पूर्व से तमाम तैयारियां की गई थी. इसके बावजूद पटना शहर में इतना पानी जमा हो गया जिसकी कल्पना भी नहीं की गई थी. सरकार को इससे बड़ी सीख मिली है. मुख्यसचिव ने बताया कि सरकार ने यह फैसला भी लिया है कि भविष्य में आने वाली ऐसी किसी भी चुनौती से निपटने के लिए विस्तृत एक्शन प्लान बने.

विशेषज्ञों की टीम पटना के जल-जमाव वाले इलाके का अध्ययन करेगी. अध्ययन के दौरान वैसे इलाके जहां लंबे समय तक जल-जमाव रहा और पानी की निकासी होने में समस्या आई उन पर विशेष ध्यान रहेगा. अध्ययन की रिपोर्ट आने के बाद भविष्य में ऐसी किसी भी बारिश से निपटने का प्लान बनेगा. कार्य योजना बनाते वक्त जल निकासी के अंतिम छोर से योजना बनेगी. यह भी देखा जाएगा कि कहां चूक हुई और किन कारणों से इतना जल जमाव हुआ.

-------

बॉक्स के लिए :

शहरी क्षेत्र के लोगों को भी मुआवजा देने पर विचार

मुख्यसचिव दीपक कुमार ने कहा कि सरकार ग्रामीण क्षेत्रों की तर्ज पर शहर के प्रभावित लोगों को भी राहत और मुआवजा देने पर विचार कर रही है. इस बार की बारिश में पटना में 65 हजार घर बाढ़ और जल जमाव से प्रभावित हुए हैं. जाहिर है लोगों के यहां कुछ न कुछ बरबाद हुआ होगा. ऐसे में यह विचार किया जा रहा है. इस पर अंतिम फैसला मुख्यमंत्री के स्तर पर होगा.

------

जल जमाव के कारणों की होगी जांच नपेंगे दोषी

मुख्यसचिव दीपक कुमार ने कहा है कि 27 से 29 सितंबर के बीच भारी बारिश और इसके बाद पटना में हुए भारी जल जमाव के कारणों की सरकार जांच कराएगी. जांच में देखा जाएगा कि पानी जमने की असल वजह क्या थी. इसके साथ ही यह भी देखा जाएगा कि जल जमाव के कारणों के लिए कौन दोषी हैं. उन्होंने कहा कि दोषी कोई भी होगा उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.