गुजरात के सीएम ने संगम स्नान के बाद किया दर्शन-पूजन

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: प्रयागराज में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान का असर साफ दिखाई दे रहा है. कुंभ में करोड़ों लोग आ रहे हैं. यहां के प्रति लोगों का आकर्षण बढ़ा है. इससे एकता व अखंडता का एक सकारात्मक संदेश पूरी दुनिया में जा रहा है. यह बातें गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने शुक्रवार को कुंभ का भ्रमण करने के दौरान कहीं. विजय रूपाणी ने कहा कि कुंभ हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है. यहां आकर देखा तो लगा कि बिजली, पानी, सड़क व स्वच्छता को लेकर प्रदेश सरकार ने बेहतरीन कार्य किया है.

स्नान, पूजन और आमंत्रण

गुजरात के सीएम विजय रूपाणी अपनी पत्नी संग प्रयागराज पहुंचे और सबसे पहले संगम स्नान किया. इसके बाद उन्होंने बंधवा स्थित लेटे हुए हनुमानजी मंदिर पहुंचकर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी व योगगुरु आनंद गिरी की अगुवाई में पवनसुत का पूजन-अर्चन किया और आरती उतारी. फिर मंदिर परिसर में उन्होंने अखाड़ों के प्रतिनिधियों से वार्ता की और शिवरात्रि के अवसर पर परिषद के संतों को गुजरात आने के लिए आमंत्रित किया.

वाह, यही है अक्षयवट?

मंदिर में पूजन-अर्चन के बाद गुजरात के सीएम किला परिसर में स्थित अक्षयवट पहुंचे. उन्होंने योगगुरु आनंद गिरी के साथ अक्षयवट का दर्शन कर परिक्रमा की. दर्शन करने के बाद श्री रूपाणी ने कहा कि यहां पर अद्भुत दिव्यता की अनुभूति हो रही है. मोदी जी व योगीजी के सार्थक प्रयास से अक्षयवट आम जनता के दर्शन के लिए खुल गया है. यह भारतीय इतिहास में हमेशा के लिए गौरव का क्षण रहेगा.

युवा पीढ़ी को मिलती है कुंभ से प्रेरणा

श्री रूपाणी सेक्टर सोलह स्थित निर्मोही अनी अखाड़े के पट्टाभिषेक समारोह में भी पहुंचे. जहां पर संत-महात्माओं द्वारा उनका स्वागत किया गया. उन्होंने कहा कि अखाड़ों ने अनादि काल से हमारी भारतीय संस्कृति व सभ्यता को जीवंतता प्रदान की है और समाज को संगठित करके रखा है. कुंभ से युवा पीढ़ी को मार्गदर्शन मिलता है. यहां करोड़ों लोग संगम में स्नान करने आ रहे हैं. जो भारत की एकता व अखंडता का परिचायक है.