कानपुर। 1 जून 1985 को तमिलनाडु में जन्में दिनेश कार्तिक भारत के बेहतरीन विकेटकीपर बल्लेबाजों में से एक है। कार्तिक ने 10 साल की उम्र से क्रिकेट खेलना शुरु कर दिया था। उनके पिता का सपना था कि उनका बेटा एक बड़ा क्रिकेटर बने। इसीलिए बचपन में वह कार्तिक को लेदर की हार्ड बॉल से तेज गेंद फेंका करते थे। यही वजह है कि कार्तिक बहुत छोटी उम्र में बड़े लड़कों के साथ क्रिकेट खेलने लगे थे। इसके बाद कार्तिक का सेलेक्शन तमिलनाडु की यूथ टीम में हुआ। वहां पर उन्होंने बैटिंग के साथ-साथ विकेटकीपिंग में भी ध्यान लगाया।

ऐसा है दिनेश कार्तिक का रिकाॅर्ड
कार्तिक ने सितंबर 2004 में इंग्लैंड के विरुद्ध अपना पहला वनडे इंटरनेशनल मैच खेला। हालांकि वह इस मैच में कुछ खास नहीं कर सके और एक रन बनाकर आउट हो गए। धोनी के आने के बाद कार्तिक को टीम में जगह मिल पाना मुश्किल सा हो गया। 2004 में एक मैच खेलने के बाद 2005 में उन्हें कोई मौका नहीं मिला। वहीं अगले साल सिर्फ 3 वनडे खेले। इसके बाद साल दर साल वह टीम में आते-जाते रहे और रन बनाते रहे। इस खिलाड़ी के नाम 26 टेस्ट मैचों में 1025 रन दर्ज हैं, जिसमें एक शतक और सात अर्धशतक शामिल हैं। वहीं वनडे की बात करें तो उनके नाम 94 मैचों में 1752 रन दर्ज हैं, हालांकि एकदिवसीय मैचों में वह कभी शतक नहीं लगा पाए मगर नौ हाॅफसेंचुरी जरूर उनके नाम हैं। वहीं टी-20 में इस बल्लेबाज ने 32 मैचों में 33.25 की औसत से 399 रन दर्ज हैं।

आखिरी गेंद में जड़ा था छक्का
35 साल के हुए दिनेश कार्तिक को एक मैच हमेशा याद किया जाता है। इस मुकाबले में उन्होंने आखिरी गेंद पर छक्का जड़कर भारत को जीत दिलाई थी। ये मुकाबला साल 2018 में भारत बनाम बांग्लादेश के बीच खेला गया था। यह निदाहास ट्राॅफी फाइनल था, जिसमें भारत को फाइनल मुकाबला जीतने के लिए आखिरी बाॅल पर 5 रन की जरूरत थी और कार्तिक ने छक्का मारकर करोड़ों भारतीय फैंस को झूमने पर मजबूर कर दिया।


4 विकेट से जीता था भारत
भारत ने बांग्‍लादेश को 4 विकेट से हराकर निदाहास ट्रॉफी अपने नाम की थी। मैच का परिणाम आखिरी गेंद पर निकला, जब बल्‍लेबाज दिनेश कार्तिक ने छक्‍का मार टीम को जीत दिला दी। इस त्रिकोणीय टी-20 सीरीज के फाइनल में बांग्लादेश ने 20 ओवर में 8 विकेट पर 166 रन बनाकर 167 का टारगेट इंडिया के सामने रखा था। टीम की ओर से शब्बीर ने सर्वाधिक शब्बीर रहमान ने 77 रन की अर्धशतकीय पारी खेली। उनके अलावा महमदुल्लाह ने 21 रनों का योगदान दिया।

रोहित का बोला बल्ला
167 रन का टारगेट चेज करने उतरी टीम इंडिया को एक सधी हुई मगर मजबूत सलामी साझेदारी की जरूरत थी। ऐसे में, सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कप्तानी पारी खेलते हुए टीम के रन चेज को पहले 10 ओवर्स में आसान बनाया। रोहित ने 42 गेंदों में 4 चौके और 3 छक्कों की मदद से 56 रन बनाए। हालांकि, उन्हें दूसरे एंड से कुछा खास मदद नहीं मिली और पहले विकेट के तौर पर शिखर धवन (7 रन) पर आउट हो गए। उनकी जगह बल्लेबाजी में उतरे रैना स्लिक कैच देकर जीरो पर आउट हो गए। इंडिया के 32 रन पर दो विकेट गिर चुके थे। ऐसी सिचुएशन में केएल राहुल ने 24 रन की पारी खेलकर टीम को सबल दिया। हालांकि, 9.3 ओवर में वह आउट हो गए और टीम का स्कोर 83 पर 3 था।

दिनेश कार्तिक ने लगाई भारत की नैय्या पार
हालांकि, 17.6 ओवर में पांडे 28 रन पर आउट हो गए। उनके बाद बल्लेबाजी करने उतरे दिनेश कार्तिक ने विस्फोटक नाबाद 29 रन पारी के दम पर टीम इंडिया को जीत हासिल हुई। दिनेश कार्तिक ने किस अंदाज में विस्फोटक पारी खेली इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि महज 8 गेंदों में 2 चौके और 3 छक्कों की मदद से उन्होंने ये पारी खेली। आखिरी गेंद पर जब जीत के लिए 5 रनों की दरकार थी तब दिनेश कार्तिक ने छक्का मारकर टीम को जीत दिलाई। इस तरह टीम ने निर्धारित 20 ओवर में 6 विकेट पर 168 रन बनाकर मैच जीत लिया।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk