चुनाव आयोग के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश में 62.69 फ़ीसदी मतदान, बिहार में लगभग 55 फ़ीसदी, झारखंड में 66 फ़ीसदी, छत्तीसगढ़ में 63.44 फ़ीसदी, कर्नाटक में 68 फ़ीसदी, राजस्थान में 63.3 फ़ीसदी मतदान हुआ.

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर की बात करें तो यहां मतदान 69.08 फ़ीसदी, पश्चिम बंगाल में 78.89 फ़ीसदी, ओडिशा में 70 फ़ीसदी, मणिपुर में 74 फ़ीसदी, महाराष्ट्र में 62 फ़ीसदी और मध्य प्रदेश में 54.41 फ़ीसदी मतदान हुए.

चुनाव आयोग के मुताबिक़ देश भर में मतदान आमतौर पर शांतिपूर्ण रहा और मतदाता बड़ी संख्या में मतदान केंद्रों तक पहुंचे.

हालांकि झारखंड में माओवादी हिंसा और ओडिशा में आम चुनावी हिंसा की छिटपुट घटनाओं की भी ख़बर है.

महाराष्ट्रः सूची में नाम नहीं
लोकसभा चुनाव के पांचवे चरण में महाराष्ट्र के 19 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान संपन्न हुआ. इन निर्वाचन क्षेत्रों में औसत 62 प्रतिशत मतदान हुआ. महाराष्ट्र में मतदान का यह दूसरा चरण था.

मुंबई से वरिष्ठ पत्रकारअश्विन अघोर ने जानकारी दी कि पुणे में कई मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से ग़ायब होने की वजह से हज़ारों मतदाता अपना वोट नहीं डाल सके. इनमें अभिनेता अमोल पालेकर, उनकी पत्नी संध्या गोखले और संगीतकार डॉ सलील कुलकर्णी भी शामिल हैं.
कड़े मुक़ाबलों वाली सीटों पर मतदान ज़्यादा
डॉ सलील कुलकर्णी ने बीबीसी को बताया, “आज जब मेरी मां और बहन मतदान करने पहुंची तब पता चला कि मतदाता सूची में हमारे नाम ही नही हैं. हमने पिछले विधानसभा और महानगरपालिका चुनावों में मतदान किया था.”

मतदान न कर पाने से नाराज़ हज़ारो लोगों ने शाम को पुणे के ज़िलाधिकारी कार्यालय पर धरना दिया. उनकी मांग थी की उन्हें मतदान करने दिया जाए, अन्यथा वे घर नही जायेंगे.

इस चरण में उत्तर महाराष्ट्र, पश्चिम महाराष्ट्र, मराठवाडा और कोंकण के निर्वाचन क्षेत्र शामिल रहे.

पांचवें चरण में महाराष्ट्र में सुशील कुमार शिंदे, अशोक चव्हाण, गोपीनाथ मुंडे, सुप्रिया सुले आदि दिग्गजों ने अपनी क़िस्मत आज़माए. उनका भविष्य आज ईवीएम मशीन में बंद हो गया इनकी क़िस्मत का फ़ैसला अब 16 मई को होगा.

वरिष्ठ पत्रकार अघोर ने ये जानकारी भी दी कि इन 19 निर्वाचन क्षेत्रों में औसत 62 प्रतिशत मतदान हुआ, जिसमें हातकणंगले में 69%, हिंगोली में 63%, नांदेड में 63%, परभणी में 62%, मावल में 63%, पुणे में 59%, बारामतीमें 68%, शिरूर में 60%, अहमदनगर में 60%, शिर्डी में 61%, बीड में 64%, उस्मानाबाद में 65%, लातूर में 63%, माढा में 62%, सांगली में 63%, सातारामें 64%, सिंधुदुर्ग-रत्नागिरी में 60% और कोल्हापूर में 68% मतदान हुआ है.

ओडिशा: छिटपुट झड़प

भुवनेश्वर से वरिष्ठ पत्रकारसंदीप साहू के मुताबिक़ ओडिशा में विधानसभा चुनाव के साथ-साथ लोकसभा की 11 सीटों के लिए भी मतदान हुआ.

यहाँ हिंसा की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान आमतौर पर शांतिपूर्ण तरीक़े से हुआ.

राज्य के खुर्दा ज़िले के खंडपाडा विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान अधिकारी ने एक मतदाता को कथित रूप से प्रदेश में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल को वोट देने के लिए कहा, जिसकी जानकारी होने पर लोगों ने चुनाव अधिकारी के साथ मारपीट की.

बिहार: गर्मी का असर

पटना में मौजूद बीबीसी संवाददाता पंकज प्रियदर्शी के मुताबिक़ राज्य की सात सीटों पर शांतिपूर्ण तरीक़े से मतदान हुआ.
कड़े मुक़ाबलों वाली सीटों पर मतदान ज़्यादा
उन्होंने बताया कि बहुत अधिक गर्मी होने की वजह से दोपहर में कम लोग मतदान करने निकले.

लेकिन बाद में लोगों को मतदान केंद्रों की तरफ़ जाते हुए देखा गया. बिहार में कुल मिलाकर लगभग 55 फ़ीसदी मतदान हुआ.

कर्नाटक: युवाओं का जोश

बंगलौर में मौजूद बीबीसी संवाददाता तुषार बनर्जी के मुताबिक़ तीन बजे तक कर्नाटक में 47 फ़ीसदी मतदान हुआ.

वहीं बंगलौर स्थित वरिष्ठ पत्रकार इमरान क़ुरैशी के मुताबिक़ राज्य की सभी लोकसभा सीटों के लिए हुए मतदान में बड़ी संख्या में युवाओं ने भाग लिया. राज्य में इस साल 15 लाख नए मतदाता बने हैं.

पहली बार मतदान के लिए आए दक्ष गोवा में काम करते हैं. वो मतदान करने के लिए बंगलौर आए हैं. उन्होंने बताया कि इस चुनाव में युवा मतदाता ही निर्णायक भूमिका निभाएंगे. सोशल मीडिया की वजह से बड़ी संख्या में युवा इस बार के चुनाव में सक्रिय हैं.

दक्ष की बहन अनीता पढ़ाई करती हैं, वो भी पहली बार वोट डालने पहुँचीं थीं. उन्होंने कहा, ''मुझे लगता है कि मेरा वोट बदलाव लाएगा. मैं चाहती हूँ कि मेरा देश एक सुपर पॉवर बने. हमारे उम्मीदवार अच्छे और स्वच्छ छवि वाले हैं. मुझे विश्वास है कि वो अच्छी सरकार देंगे.''

इंफ़ोसिस के कार्यकारी उपाध्यक्ष और औद्योगिक संगठन (सीआईआई) के अध्यक्ष कृष गोपालकृष्णन ने बंगलौर दक्षिण के एक मतदान केंद्र पर मतदान किया, जहां से इंफ़ोसिस के ही पूर्व पदाधिकारी नंदन निलेकणी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं.

मतदान के बाद उन्होंने कहा, '' मैं जल्दी इसलिए आया ताकि मैं मतदान कर सकूं. मैं अपने दोनों पूर्व सहयोगियों नंदन और बाला (नंदन निलेकणी और इंफ़ोसिस के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी वी बालाकृष्णन, जो बंगलौर सेंट्रल से आप के उम्मीवार ) को शुभकामनाएं देता हूँ.''

यूपी: लोगों में उत्साह
कड़े मुक़ाबलों वाली सीटों पर मतदान ज़्यादा
लखनऊ में मौजूद वरिष्ठ पत्रकार अतुल चंद्रा के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश की जिन 11 सीटों पर मतदान हुआ वहां लोगों में काफ़ी जोश देखा गया. शाम तक वहाँ क़रीब 62.52 फ़ीसदी मतदान हुआ.

उत्तर प्रदेश में मतदान का ये दूसरा चरण है और इस दौरान मतदाता मेनका गांधी, संतोष गंगवार, सलीम शेरवानी और बेगम नूर बानों की क़िस्मत का फ़ैसला कर रहे हैं. यूपी में कुल 80 लोकसभा सीटें हैं. कोई भी पार्टी इस राज्य में बेहतर प्रदर्शन किए बग़ैर दिल्ली की गद्दी तक नहीं पहुंच सकती.

महाराष्ट्र की 19 सीटों पर लगभग 62 फ़ीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

राजस्थान: धीमी शुरुआत

जयपुर की वरिष्ठ पत्रकार आभा शर्मा के मुताबिक़ राजस्थान की 20 लोकसभा सीटों के लिए मतदान हुआ. सुबह मतदान की धीमी रही. मतदान करने वालों में बुजुर्गों की संख्या अधिक थी, जो सुबह की सैर या मंदिरों में अपने अराध्य के दर्शन कर लौट रहे थे.

मतदान को लेकर युवाओं ख़ासकर लड़कियों में बहुत उत्साह नज़र आया. अधिकांश मतदाता अपने परिवार के साथ वोट डालने पहुँचे.

श्रीगंगानगर लोकसभा सीट पर सबसे ज़्यादा 59.20 फ़ीसदी वोट पड़े और सबसे कम झंझनू लोकसभा सीट पर 44 फ़ीसदी मतदान हुआ. जयपुर में 53 फ़ीसदी और जयपुर ग्रामीण क्षेत्र में 45.84 फ़ीसदी मतदान हुआ.

International News inextlive from World News Desk