रिमबर्स के बाद भी जेब पर भारी पड़ रहे पेट्रोल के दाम

फील्ड जॉब करने वालो का बिगड़ा बजट

Meerut. पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दाम से प्राइवेट नौकरी करने वालों के बजट को तगड़ा झटका लगा है. दरअसल, पेट्रोल के लिए ऑफिस से तय एकमुश्त रकम ही मिलती है लेकिन पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के कारण खर्चा तय रकम से ज्यादा हो रहा है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने ऐसे ही नौकरी पेशा युवकों से बात कर उनकी परेशानी जानने की कोशिश की.

बजट बिगड़ गया

पेट्रोल के दाम में 10 पैसा 30 पैसा या 50 पैसा बढ़ने या घटने से कोई खास फर्क नही पड़ रहा था लेकिन जब से पेट्रोल 78 रूपये के पास पहुंचा है, तबसे पूरा बजट बिगड़ गया है. पहले 100 रूपये के पेट्रोल में पूरा दिन के काम आराम से हो जाते थे. अब 200 रूपये का पेट्रोल भी कम पड़ रहा है.

राजेश, नेटवर्किंग जॉब

दूसरे खर्चो में कटौती

पहले पेट्रोल को रुटीन के खर्च से बचत करके मैनेज कर लेता था. महीने का खर्च प्रभावित नहीं होता था. पहले साढ़े तीन हजार रूपये में काम चल जाता था लेकिन अब पेट्रोल के लिए 5 हजार भी कम पड़ रहे हैं. दूसरे जरूरी खर्चो में कटौती कब तक करते रहेंगे.

राजीव शर्मा, इंजीनियर, टेलीकॉम सेक्टर

कर रहे हैं बाइक पूल

पेट्रोल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं लेकिन कंपनी हर माह तेल के लिए फिक्स अमाउंट का भुगतान करती है. मात्र तीन हजार रूपये कंपनी तेल के लिए देती है जबकि खर्च अब 5 हजार से अधिक हो रहा है. ऐसे में आपस में बाइक पूल करके मार्केटिंग कर रहे हैं.

देवेंद्र, एमआर

बाइक शेयरिंग से बचत

मैंने पिछले माह से अपने ऑफिस मे काम करने वाले दोस्त के साथ बाइक शेयरिंग शुरु की है. इससे उसका बजट भी बैलेंस में है और मेरा भी. पहले केवल 2 से ढाई हजार में महीने भर काम चल रहा था लेकिन अब बजट 4 हजार के पार होने लगा है इसलिए बाइक शेयरिंग शुरू की है.

सुयोग्य शर्मा, मार्केटिंग

तनख्वाह से कट रहा पेट्रोल खर्च

हमारा काम प्रोडक्ट मार्केटिंग है. रोजाना कई-कई क्लाइंट के पास जाना पड़ता है. कंपनी रोजाना 150 रूपये से अधिक तेल खर्च नहीं देती है. अब दाम बढ़ने से पेट्रोल पर ही रोजाना 200 रूपये खर्च हो रहे हैं. जो अपनी तनख्वाह में से देना पड़ रहा है.

शिशिर कौशिक, मार्केटिंग

कार चलाना पड़ रहा भारी

पिछले साल ही बाइक की जगह कार खरीद कर ऑफिस आना-जाना शुरू किया था. तब दाम कुछ कंट्रोल थे लेकिन अब करीब 12 रूपये का फर्क आ गया है. इसलिए अब वापस बाइक ही चलाना शुरू कर दिया है.

लोकेश ठाकुर, कर्मचारी, एचपी गैस

कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

पेट्रोल-डीजल के लगातार बढ़ते दाम के विरोध में महानगर कांग्रेस कमेटी ने डीएम कार्यालय पर प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया. इस मौके पर किशन कुमार किश्नी, शबी खान, हरिकिशन वर्मा, पं. जयनारायण शर्मा, दिनेश मोहन, हाजी मोहिउद्दीन, सतीश शर्मा आदि शामिल रहे.