-आरा में पुलिस पिटाई में जख्मी लड़कों को छोड़ने गया था मो. निजाम

- डर के मारे नहीं करवा सका एफआईआर

patna@inext.co.in

PATNA: जेडीयू ऑफिस में मंगलवार की रात एक स्कॉर्पियो ड्राइवर मो. निजाम की जमकर पिटाई की गई. किसी तरह वह अपनी जान बचाकर भाग सका. राजाबाजार के समनपुरा का रहने वाला मो. निजाम इतना डरा हुआ है कि उसने पुलिस को खबर भी नहीं की. एक तो सत्ताधारी दल की बात और ऊपर से वह उन लड़कों को आरा छोड़ने गया था, जिसे पुलिस ने जमकर पीटा था. इस मामले में कई पुलिस वाले सस्पेंड हुए थे और एसपी और एएसपी का ट्रांसफर तक कर दिया गया था. अब वैसे लड़कों के खिलाफ शिकायत करने की हिम्मत वह नहीं जुटा पा रहा है.

पहुंचाकर लौट आने की सजा

मंगलवार को करीब एक बजे निजाम की स्कॉर्पियो बुक की गई आरा जाने के लिए. एक एजेंट के जरिये यह गाड़ी बुक करवाई गई. निजाम टाइम पर वीरचंद पटेल पथ स्थित जेडीयू आफिस पहुंच गया. पुलिस की मारपीट में जख्मी हुए दो लड़कों के अलावा चार अन्य जेडीयू छात्र नेता बैठे. सभी आरा के लिए निकल गये. ठीक से वहां पहुंचे भी. निजाम को क्700 रुपए भी दे दिये गए. वह पटना के लिए चल दिया, मगर रास्ते में उसे फोन कर फिर से बुलाया गया वह बिहटा आ गया था, उसे लौटकर फिर से उन चार लड़कों को लाना पड़ा जो पटना से वहां गए थे. जब वह वहां पहुंचा तो उसके साथ गलत व्यवहार किया गया. किसी तरह वह लेकर वहां से चल पड़ा.

गेट बंद कर पीटा

पटना लौटने के दौरान दानापुर के पहले ही इन लोगों ने एक होटल पर रुककर खाया पीया. नशे में ये लोग पटना पहुंचे. जेडीयू ऑफिस पहुंचाकर जैसे ही निजाम जाने लगा, उससे इन लड़कों ने चाभी छीन ली और आफिस का बाहरी गेट बंद कर उसकी पिटाई की. काफी देर तक पिटने के बाद वह किसी तरह उनकी आरजू मिन्नत करके वह उनके चंगुल से आजाद हुआ. निजाम ने बताया कि वह डर से पुलिस को खबर भी नहीं कर सका. उसने अपने गाड़ी मालिक शर्मा जी को सारी जानकारी दे दी है. एजेंट से भी बात की मगर वह भी डरा हुआ है. निजाम ने बताया कि उसके मां बाप नहीं है पत्‍‌नी के साथ रहता है. इसी डर से वह पुलिस को भी नहीं बता रहा कि उसके साथ फिर मारपीट की गई तो वह कहां जायेगा.