नई दिल्ली (पीटीआई)। आईसीसी बोर्ड के सदस्य शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कोविड ​​-19 महामारी के मद्देनजर अपने कई टूर्नामेंटों के लिए आकस्मिक योजनाओं पर चर्चा करेंगे। इस मीटिंग में उन विषयों पर चर्चा होगी, जो क्रिकेट सीरीज महामारी के चलते स्थगित हो गई हैं।आईसीसी बोर्ड के कुछ सदस्यों ने पीटीआई से पुष्टि की कि कॉन्फ्रेंस कॉल के दौरान कोई ठोस निर्णय की उम्मीद नहीं है, मगर मौजूदा स्थिति को देखते हुए इस चर्चा की आवश्यकता थी। 2020 में अक्टूबर-नवंबर में पुरुषों की T20 वर्ल्ड कप के अलावा विभिन्न द्विपक्षीय श्रृंखलाएं हैं जो वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा हैं।

टेस्ट चैंपियनशिप के मैचों पर पड़ रहा प्रभाव

कोरोना के चलते कई टेस्ट सीरीज भी रद की जा चुकी हैं, ये सीरीज आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का भी हिस्सा हैं। अब अगर आगे इन सीरीज को कैंसिल करना पड़े तो टेस्ट चैंपियनशिप अंक तालिका में प्वॉइंट्स का बंटवारा कैसे होगा। यह देखना है। अभी तक आईसीसी ने सीरीज रद होने पर अंकों के बंटवारे को लेकर कोई चर्चा नहीं की थी। ऐसे में इस मसले को सुलझाना होगा। एक सदस्य देश के एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया, 'अभी, स्थिति ऐसी है कि कोई भी निर्णय नहीं लिया जा सकता है क्योंकि कोई भी नहीं जानता है कि सामान्य स्थिति कब लौटती है। जाहिर है कि सदस्य अपने-अपने देशों में स्थिति का कम विवरण देंगे। लेकिन अगर हम इस लॉकडाउन को दो महीने तक जारी रखते हैं, तो हमें पूरी योजना के साथ तैयार रहना होगा।" उन्होंने कहा कि स्थगित किए जाने वाले टेस्ट चैम्पियनशिप खेलों का अंक आवंटन एक और मुद्दा होगा।

कैसे होगा अंको का बंटवारा

यही नहीं सदस्य ने आगे यह भी कहा, 'इंग्लैंड बनाम श्रीलंका सीरीज स्थगित हो गई, लेकिन एफटीपी कैलेंडर को देखते हुए आगे इसे कहां और कैसे आयोजित किया जाएगा, फिलहाल कोई जगह नहीं दिखती है। यह एक ऐसी श्रंखला नहीं है जो प्रभावित होगी, बल्कि कुछ और भी है जो लाईन में हैं।" जून और जुलाई में इंग्लैंड वेस्टइंडीज और पाकिस्तान की मेजबानी कर रहा है जबकि न्यूजीलैंड अगस्त में बांग्लादेश की यात्रा करेगा। वहीं नवंबर में भारत ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगा।

गांगुली होंगे मीटिंग में शामिल

अब तक, ऑस्ट्रेलिया में वर्ल्ड टी 20 के लिए कोई खतरा नहीं है, लेकिन अगर लॉकडाउन दो से तीन महीनों तक जारी रहता है, तो यह यात्रा प्रतिबंधों के बारे में निर्णय लेने के लिए ऑस्ट्रेलियाई सरकार का विशेषाधिकार हो सकता है और उस बिंदु पर वे अपने देश की स्थिति को कैसे महसूस करेंगे। बोर्ड के एक अन्य सदस्य ने कहा, "यह एक चरम स्थिति है, जिसे हम फिलहाल सोच भी नहीं रहे हैं। लेकिन यह एक संकट की स्थिति है और विकल्पों पर चर्चा की जाए तो कोई नुकसान नहीं है।" बीसीसीआई की तरफ से अध्यक्ष सौरव गांगुली बोर्ड के प्रतिनिधि होंगे। यदि गांगुली उपस्थित नहीं हो पाते हैं, तो इसमें सचिव जय शाह होंगे।'

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk