2000 में बने थे पहली बार चैंपियन

अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप की शुरुआत 1988 में हुई थी। उसके बाद 10 साल तक यह टूर्नामेंट नहीं खेला गया। बाद में आईसीसी हर दो साल में यह टूर्नामेंट आयोजित करवाने की बात रखी। 1998 से लेकर अब तक 11 वर्ल्डकप खेले जा चुके। मगर भारत पहली बार वर्ल्ड चैंपियन साल 2000 में बना था। फाइनल में भारत का मुकाबला श्रीलंका से हुआ था और कप्तान मोहम्मद कैफ की अगुआई में भारत ने यह मैच 6 विकेट से जीता। इस टीम में युवराज सिंह भी थे। टूर्नामेंट जीतते ही कैफ और युवराज की भारत की सीनियर टीम में एंट्री हो गई और दोनों ने सालों तक क्रिकेट खेला। हालांकि कैफ का करियर युवराज जितना लंबा नहीं रहा। कैफ ने भारत की तरफ से 125 वनडे खेले जिसमें उन्होंने 2753 रन बनाए। वहीं उनके नाम 13 टेस्ट में 624 रन दर्ज हैं। कैफ ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच 2006 में खेला उसके बाद वह घरेलू क्रिकेट ही खेलते रहे। मो. कैफ एक अच्छे बल्लेबाज के साथ-साथ बेहतरीन फील्डर भी रहे।

भारत को तीन बार u19 वर्ल्‍डकप दिलाने वाले वो तीन कप्‍तान अब कहां है

2008 में दूसरी बार आया खिताब

पहला वर्ल्डकप खिताब जीतने के बाद भारत को 8 साल इंतजार करना पड़ा, 2008 में दूसरी बार भारत अंडर 19 विश्व चैंपियन बना। उस वक्त भारत की जूनियर टीम की कमान विराट कोहली के हाथों में थी। कोहली की टीम ने फाइनल में साउथ अफ्रीका को 12 रन से हराकर खिताब पर कब्जा किया था। यह टूर्नामेंट जीतते ही विराट की किस्मत चमक गई। हालांकि उन्होंने फाइनल में कुछ खास रन नहीं बनाए मगर धीरे-धीरे वह अपने खेल को बेहतर करते गए और 2008 में ही श्रीलंका के खिलाफ वनडे करियर की शुरुआत की। इसके बाद विराट ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। आज वह भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान हैं। बल्लेबाजी की बात करें तो उनकी तुलना सचिन और ब्रैडमैन से होती है। कोहली ने 202 वनडे में 9030 रन बनाए जिसमें 32 शतक शामिल हैं। वहीं टेस्ट में उनके नाम 66 टेस्ट में 5554 रन हैं और 21 शतक लगाए।

U19 वर्ल्डकप : पाकिस्तान को हराते ही इतिहास रचने से बस एक कदम दूर है टीम इंडिया

भारत को तीन बार u19 वर्ल्‍डकप दिलाने वाले वो तीन कप्‍तान अब कहां है

2012 में तीसरी बार बने चैंपियन

साल 2012 में भारत की अंडर 19 क्रिकेट टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले कप्तान उन्मुक्त चंद इस मामले में सबसे अनलकी रहे। वह इकलौते ऐसे कप्तान हैं जिन्होंने अपनी जूनियर टीम को विश्व खिताब दिलाया और आज तक भारत की सीनियर टीम में जगह नहीं बना पाए। करीब 6 साल हो गए, उन्मुक्त को कोई भी इंटरनेशनल मैच खेलने का मौका नहीं मिला। वह अभी भी घरेलू क्रिकेट खेल रहे। उन्मुक्त की उम्र 24 साल हो गई है। उन्होंने 60 फर्स्ट क्लॉस क्रिकेट खेले हैं जिसमें 34.23 की औसत से 3184 रन बनाए। हालांकि आईपीएल में वह मुंबई इंडियंस और राजस्थान रॉयल्स की टीम का हिस्सा भी रहे हैं।

U19 वर्ल्ड कप : भारत का पहला मैच आज, भारतीय सीनियर क्रिकेट टीम से 1 बार ज्यादा वर्ल्ड कप जीता है जूनियर टीम ने

भारत को तीन बार u19 वर्ल्‍डकप दिलाने वाले वो तीन कप्‍तान अब कहां है

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk