नई दिल्ली (पीटीआई) खराब रैपिड टेस्ट किट को लेकर शिकायतों के बीच, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने मंगलवार को राज्यों को अगले दो दिनों तक इनका उपयोग नहीं करने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि उनकी टीम द्वारा इन उपकरणों की जांच पड़ताल के बाद वह इसको लेकर कोई भी एडवाइजरी जारी करेंगे। बता दें कि देश में कोरोना वायरस की स्थिति पर दैनिक सरकारी ब्रीफिंग में, आईसीएमआर के डॉ। रमन आर गंगाखेडकर से खराब रैपिड टेस्टिंग किट के बारे में पूछा गया। इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'हमें कल एक राज्य से शिकायत मिली है और अब तक तीन राज्यों के साथ चर्चा हुई है। रैपिड टेस्ट किट और आरटी-पीसीआर किट के परिणामों में बहुत भिन्नताएं बताई गई हैं। हम राज्यों को अगले दो दिनों तक इनका उपयोग न करने की सलाह देते हैं।'

दो दिन बाद जारी होगी एडवाइजरी

रमन ने आगे कहा, 'इन किटों का परीक्षण और सत्यापन हमारी टीमों द्वारा किया जाएगा। हम दो दिन में स्पष्ट रूप से एडवाइजरी जारी करेंगे। यदि बैचों में समस्याओं का पता लगाया जाता है, तो हम कंपनियों को उन्हें बदलने के लिए कहेंगे। मंगलवार तक देश में कोरोना संक्रमण के लिए कुल 4,49,810 सैंपल का परीक्षण किया गया है, जिनमें से सोमवार को केवल 35,852 परिक्षण किए गए थे। वहीं, 4th एम्पावर्ड ग्रुप (COVID-19 से निपटने के लिए) के अध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने स्वास्थ्य पेशेवरों और स्वयंसेवकों के मास्टर डेटाबेस के साथ एक पोर्टल बनाया है। इसके अलावा, स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि देश भर में अब तक 18,601 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk