पटना (ब्यूरो)। पटना-हावड़ा रेलखंड पर पैसेंजर ट्रेन के यात्रियों से लूटपाट की गई है। शनिवार की देर रात घटना को अंजाम दिया गया है। सभी लुटेरे हथियारों से लैस थे। रविवार की सुबह जानकारी मिलते ही लोग सकते में हैं। मामला प्रकाश में आते ही हड़कंप मच गया। पुलिस ने आननफानन में चार लोगों को गिरफ्तार किया है। हैरानी की बात ये है कि लूटपाट में एक सिपाही का बेटा भी शामिल है। बताया जा रहा है कि उनकी ड्यूटी मुख्यमंत्री की सुरक्षा में लगी है। आरोपी की मां भी पुलिस विभाग में है।

यात्रियों को आई गंभीर चोट

बताया जाता है कि पटना-किऊल सवारी गाड़ी (63206 डाउन) में हथियारों से लैश बदमाशों ने शनिवार की देर रात लगभग 12 बजे जमकर लूटपाट की। लूट के दौरान विरोध करने पर अपराधियों ने यात्रियों की पिटाई भी की। कई यात्रियों को गंभीर चोटें आई हैं। मोकामा स्टेशन पर ट्रेन के रुकने पर यात्रियों ने जीआरपी से मामले की शिकायत की। यात्रियों में रेल प्रशासन के खिलाफ काफी आक्रोश है।

बाढ़ से चढ़े थे बदमाश

जानकारी के अनुसार, बाढ़ स्टेशन पर ट्रेन के रुकने के बाद 7 बदमाश सवार हो गए। ट्रेन जब पंडारक स्टेशन से आगे बढ़ी तो बदमाशों ने यात्रियों से लूटपाट करने लगे। ट्रेन में सवार कुछ यात्रियों ने विरोध किया तो बदमाशों ने उनकी पिटाई कर दी। आधे घंटे तक लूटपाट करने के बाद सभी बदमाश मोर स्टेशन पर उतर गए।

दूसरी ट्रेन में भी करने वाले थे लूटपाट

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वो लोग एक ट्रेन को निशाना बनाने के बाद अब दूसरी ट्रेन में लूटपाट करने की तैयारी कर रहे थे। इस दौरान जैसे ही पुलिस को इसकी जानकारी मिली पुलिस ने तत्काल छापेमारी शुरू कर दी। पुलिस को पता चला कि अपराधी लूटपाट करने के बाद बाढ़ स्टेशन के प्लेटफार्म 3 और 4 पर आकर इसी ट्रेन का इंतजार करने लगे। घटना की सूचना पुलिस को मिलते ही रेलवे पुलिस हरकत में आ गई चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

संदेह के आधार पर पकड़े गए आरोपी

आरोपियों ने घटना की रात 12 बजे अंजाम दिया। इसके बाद वो लोग मोर स्टेशन पर उतर गए। इसके बाद पुलिस ने सुबह करीब 4 बजे संदेह के आधार पर चार आरोपियों को हिरासत में लिया। हिरासत में लेने के बाद पुलिस उन्हे थाने लेकर आई। इसके बाद इन लोगों से जब पुलिस ने पूछताछ की तो ये लोग गुमराह कर रहे थे। पुलिस ने जब सख्ती किया तो ये लोग टूट गए और सच उगल दिया।

पुलिस जवान पर तान  दिया हथियार

पुलिस ने जब संदेह के आधार पर जब हिरासत में लिया तब एक आरोपी ने पुलिस पर हथियार तान  दिया। जैसे ही उसने हथियार ताना पुलिस ने तत्काल चौकसी दिखाते हुए पिस्टल छिन लिया और आरोपी को नीचे गिरा दिया। इसके बाद उसकी तलाशी ली गई कि उसके पास और हथियार तो नहीं है। हालांकि, पुलिस को उसके पास से सिर्फ एक हथियार और तीन कारतूस बरामद हुआ है।

भागलपुर के हैं सभी आरोपी

सभी अपराधी भागलपुर जिला के सुल्तानगंज इलाके के बताए जा रहे हैं। वहीं, रानू नामक एक अपराधी ने पुलिस को बताया कि उसके मां-पिता दोनों पुलिस विभाग में नौकरी करते हैं। रानू ने बताया कि उसके पिता पप्पू प्रसाद की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सिक्योरिटी में ड्यूटी लगती है। घटना की सूचना पाकर रेल पूर्वी जोन के डीएसपी भगवान गुप्ता बाढ़ स्टेशन पर पहुंच गए।

'अपराधियों के पास से मोबाइल फोन, एक देसी कट्टा के साथ तीन जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इनके तीन साथियों की तलाश की जा रही है। जगह-जगह हमारी टीम छापेमारी कर रही है।'

-सुजीत कुमार, एसपी रेल पटना

patna@inext.co.in

Posted By: Inextlive Desk

Crime News inextlive from Crime News Desk