कानपुर। भारत बनाम बांग्लादेश के बीच तीन मैचों की टी-20 सीरीज का दूसरा मुकाबला गुरुवार को राजकोट में खेला गया। इस मैच में वैसे तो भारत को आठ विकेट से जीत मिली, मगर मैच के दौरान एक अजीब वाक्या मैदान में देखने को मिला। बीच मैच में बांग्लादेशी बल्लेबाज लिटन दास को पहले आउट दे दिया गया मगर बात में पंत की एक गलती के चलते दास को दोबारा बैटिंग करने का मौका मिला।

पंत का उतावलापन पड़ा भारी
ये वाक्या बांग्लादेशी पारी के छठवें ओवर में हुआ। क्रीज पर लिटन दास मौजूद थे और गेंद थी युजवेंद्र चहल के हाथों में। चहल इससे पहले चौके खा चुके थे, ऐसे में उन्होंने छठवें ओवर की तीसरी गेंद दास से दूर फेंकी। बांग्लादेशी बल्लेबाज को लगा कि वह आगे बढ़कर छक्का लगा देगा। मगर गेंद बल्ले के सामने से टर्न लेकर विकेटकीपर रिषभ पंत के हाथों में चली गई। पंत ने गेंद पकड़ने में कोई गलती नहीं की और तुरंत लिटन दास को स्टंप आउट कर दिया। दास वापस जाने लगे और सभी भारतीय खिलाड़ी विकेट का जश्न मनाने लगे।


लिटन दास ने दोबारा की बैटिंग
लिटन दास अभी मैदान से बाहर पहुंचे नहीं थे कि लेग अंपायर ने थर्ड अंपायर से डिसीजन मांगा। मैदानी अंपायर को लगा कि पंत ने गेंद स्टंप से पहले पकड़ी और हुआ भी ऐसा ही। रिप्ले में देखा गया कि गेंद पकड़ते समय पंत के ग्लव्स का कुछ हिस्सा स्टंप के आगे था। फिर क्या अपांयर ने इसे नो बाॅल करार दिया और दास को दोबारा बैटिंग का मौका मिला।

विकेटकीपर को लेकर यह है नियम
नियमों के मुताबिक, विकेटकीपर को तब तक विकेट के पीछे रहना होता है, जब तक गेंद फेंकी जा रही हो, गेंद स्ट्राइक या बल्लेबाज के पास पहुंची हो या गेंद विकेट के पीछे न आ गई हो। इन तीनों स्थितियों में विकेटकीपर विकेट के आगे नहीं आ सकता। एमसीसी के नियमों के मुताबिक, अगर अंपायर को लगता है कि विकेटकीपर ने इस नियम का उल्लंघन किया है तो वह अगली गेंद फेंकने से पहले पहली गेंद को नो बाॅल करार दे सकता है।

 

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk