कानपुर। भारत बनाम बांग्लादेश के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज की शुरुआत गुरुवार से हो रही। पहला मैच 14-18 नवंबर के बीच इंदौर में खेला जाएगा। जबकि दूसरा टेस्ट कोलकाता के ईडन गार्डन में 22-26 नवंबर के बीच आयोजित होगा। दूसरा टेस्ट डे-नाइट होगा। दोनों टीमों का यह पहला डे-नाइट टेस्ट होगा इसलिए यह सीरीज भी काफी यादगार बनने वाली है। वैसे भारत-बांग्लादेश के बीच साल 2007 में ऐसा ही एक चर्चित मैच खेला गया जिसमें भारत के 4 बल्लेबाजों ने एक ही पारी में शतक लगाया।

ढाका में हुआ था ये मुकाबला

भारत बनाम बांग्लादेश के बीच वो ऐतिहासिक टेस्ट साल 2007 में ढाका में खेला गया था। उस वक्त टीम इंडिया की कमान राहुल द्रविड़ के हाथों में थी। यह दो टेस्ट मैचों की सीरीज थी जिसका आखिरी मुकाबला मीरपुर के शेरे बांग्ला नेशनल स्टेडियम में आयोजित किया गया। सीरीज का पहला टेस्ट ड्रा रहा था। ऐसे में भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ मीरपुर टेस्ट जीतकर इतिहास रचना चाहते थे। खैर टाॅस हुआ बांग्लादेश ने पहले फील्डिंग करने का डिसीजन लिया।

भारत के 4 बल्लेबाजों ने ठोंके 4 शतक

टीम इंडिया को बल्लेबाजी का न्यौता देकर मेजबान टीम को लगा कि वह उन्हें जल्दी समेट देंगे। मगर हुआ इसके उलट, भारत की तरफ से दिनेश कार्तिक और वसीम जाफर ओपनिंग करने आए। बांग्लादेशी कप्तान ने छह गेंदबाजों को आजमाया मगर ओपनिंग जोड़ी कोई नहीं तोड़ सका। कार्तिक जहां 129 रन बनाकर आउट हुए वहीं जाफर 138 रन पर रिटायर्ड हर्ट हो गए। इसके बाद बैटिंग करने आए टीम इंडिया की दीवार कहे जाने वाले द्रविड़ ने शानदार बैटिंग करते हुए 129 रन बनाए। इसी के साथ भारत के टाॅप 3 बल्लेबाजों ने शतक ठोंक दिया था।

भारत ने 610 रन पर घोषित की पारी

चौथे नंबर पर बैटिंग की बारी थी सचिन तेंदुलकर की। अब जब शुरुआत के तीन बल्लेाबाज शतक लगा गए तो ऐसे में क्रिकेट के भगवान कहां चूकने वाले थे। सचिन ने भी शानदार पारी खेलते हुए नाबाद 122 रन बनाए। इस तरह भारत के चार बल्लेबाजों ने एक ही पारी में शतक ठोंक दिया। वहीं अंत में एमएस धोनी 51 रन बनाकर नाबाद लौटे, अगर माही भी शतक लगा देते तो टेस्ट क्रिकेट इतिहास में पहली बार होता कि आधी टीम शतक लगाकर पवेलियन लौटती। खैर भारत ने पहली पारी 3 विकेट के नुकसान पर 610 रन पर घोषित की।

118 रन पर सिमटी बांग्लादेश

भारत द्वारा दिए बड़े स्कोर का पीछा करने उतरी बांग्लादेश की टीम पहली पारी में पूरी तरह से ढह गई। टीम के छह बल्लेबाज तो दहाई का स्कोर भी नहीं बना पाए और पूरी टीम 118 रन पर ऑलआउट हो गई। बांग्लादेश की तरफ से सबसे ज्यादा 30 रन शाकिब अल हसन ने बनाए। वहीं भारत की ओर से जहीर खान ने सबसे ज्यादा पांच विकेट लिए। जबकि अनिल कुंबले को तीन और ईशांत व आरपी को एक-एक विकेट मिला।

भारत ने दिया फाॅलोऑन

पहली पारी में बांग्लादेश के सिर्फ 118 रन बनाने के बाद भारत ने मेजबानों को फाॅलोआन खेलने पर मजबूर किया। मगर इस बार भी नतीजा कुछ वैसा ही रहा। दूसरी पारी में भी बांग्लादेश टीम कुछ खास स्कोर नहीं कर पाई और पूरी टीम 253 रन पर ऑलआउट हो गई। इस बार बांग्लादेश के लिए सबसे ज्यादा 70 रन गेंदबाज मोशरफे मुर्तजा ने बनाए। वहीं भारत की तरफ से रमेश पोवार ने 3, कुंबले-सचिन-जहीर ने 2-2 विकेट लिए जबकि एक विकेट आरपी सिंह को मिला।

भारत ने दर्ज की सबसे बड़ी जीत

टीम इंडिया ने यह टेस्ट पारी और 239 रनों के अंतर से जीता। रनों के लिहाज से बांग्लादेश के खिलाफ भारत की यह अभी तक की सबसे बड़ी जीत है। वैसे इसके अलावा भारत ने बांग्लादेश को 2004 में पारी और 140 रन और उसी साल एक और टेस्ट में पारी और 83 रन के अंतर से हराया था।

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk