कानपुर। भारतीय नौसेना दिवस 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान ऑपरेशन ट्राइडेंट की शुरुआत की याद में मनाया जाता है। इस ऑपरेशन को भारतीय नौसेना ने 1971 में 4 दिसंबर की रात को अंजाम दिया था, इसमें कराची में पाकिस्तान नौसेना मुख्यालय पूरी तरह से नष्ट हो गया था। ऑपरेशन में पहली बार एंटी-शिप मिसाइल का इस्तेमाल किया गया था। इसलिए, भारत में नौसेना दिवस को हर साल मनाया जाता है, ताकि देश में नौसेना बल की भव्यता, महान उपलब्धियों और भूमिका को पहचाना जा सके। भारतीय नौसेना भारत की सशस्त्र सेना की समुद्री शाखा है। इसका नेतृत्व भारतीय नौसेना के कमांडर-इन-चीफ के रूप में भारत के राष्ट्रपति करते हैं। 17वीं शताब्दी के मराठा सम्राट, छत्रपति शिवाजी भोसले को 'फादर ऑफ इंडियन नेवी' माना जाता है।

भारतीय नौसेना में काम करते हैं लगभग 67,000 कर्मचारी
भारतीय नौसेना राष्ट्र की समुद्री सीमाओं को सुरक्षित करने के साथ-साथ भारत के अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को विभिन्न माध्यमों जैसे कि समुद्री यात्राओं, संयुक्त उपक्रमों, देशभक्ति मिशनों, आपदा राहत, और कई अन्य में तेजी लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। क्या आप जानते हैं कि भारतीय नौसेना में लगभग 67,000 कर्मचारी और लगभग 295 नौसेना शस्त्रागार हैं? इसे दक्षिण एशिया की सबसे शक्तिशाली सेना माना जाता है। भारतीय सशस्त्र बलों में तीन विभाग हैं, भारतीय सेना, नौसेना और वायु सेना। भारतीय सेना हमारी जमीन की रक्षा करती है, नौसेना हमारे पानी की रक्षा करती है और वायु सेना हमारे हवाई क्षेत्रों की रक्षा करती है।


भारतीय नौसेना ने अपनी पहली महिला पायलट शिवांगी का किया स्वागत, उड़ाएंगी डोर्नियर सर्विलांस एयरक्राफ्ट

कैसे मनाया जाता है नौसेना दिवस

नौसेना दिवस समारोह के लिए, भारतीय नौसेना के जवानों ने 1 दिसंबर, 2019 को मुंबई में एक पूर्वाभ्यास के दौरान अपने कौशल का प्रदर्शन किया। रिहर्सल मुंबई में गेटवे पर अरब सागर में हुआ। भारत में स्थित नौसेना के सभी शाखाओं में इस दिन कार्यक्रम और एक्टिविटीज आयोजित किए जाते हैं। इस दिन आसमानों में एक साथ नौसेना के कई विमानों को अपना कौशल दिखाते हुए देखा जाता है।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk