-अतीक अहमद के गुर्गो के नाम से ठेकेदार को हड़काने के मामले ने पकड़ा तूल

बरेली-माफिया डॅ3न अतीक अहमद के नाम का इस्तेमाल कर जीएम जलकल के द्वारा ठेकेदार को धमकाने का ऑडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है. मेयर और नगर आयुक्त ने इसे गंभीरता से लिया है. नगर आयुक्त ने जीएम से स्पष्टीकरण मांगा है. मेयर ने नगर आयुक्त को इस मामले के बारे में शासन को अवगत कराने के लिए लिखा है. उन्होंने कहा कि हो सकता है कि ऑडियो में छेड़छाड़ की गई हो, लेकिन जांच होनी चाहिए. इसके अलावा एडीजी, आईजी व एसएसपी को भी पत्र लिखकर जांच कराकर कार्रवाई के लिए लिखा है. एक बार फिर अतीक का नाम आने के बाद खुफिया विभाग अलर्ट हो गया है. मंडे को नगर निगम में खुफिया विभाग के दो कर्मचारी भी जांच के लिए पहुंचे.

इस मामले को लेकर हड़काया

बता दें कि शहर में संचालित 67 नलकूपों के ऑटोमेशन व अनुरक्षण का काम वाराणसी की केएमबी इलेक्ट्रिकल कंपनी को मिला है. यह टेंडर दस साल के लिए किया गया है, जिसमें नगर निगम को हर साल 1.2 करोड़ रुपये खर्च करना होगा. टेंडर प्रक्रिया में भाग लेने वाले फिरोजाबाद की रिलाइट सोल्यूशन कंपनी के विवेक गुप्ता ने आपत्ति जताते हुए मेयर से शिकायत की थी. इसके बाद से मामला तूल पकड़ता चला गया. एक दिन पहले जलकल विभाग के अधिकारी और ठेकेदार के बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ, जिसमें अधिकारी पूर्वाचल के माफिया अतीक अहमद और हरिशंकर तिवारी के नाम पर ठेकेदार को हड़का रहे थे. ठेकेदार पर शिकायत वापस लेने का दबाव भी बनाया.

जलकल विभाग के अधिकारी द्वारा माफियाओं का नाम लेकर किसी को धमकाना गलत है. उनसे सख्ती के साथ स्पष्टीकरण लिया जा रहा है. संतोषजनक जवाब नहीं देने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी. टेंडर की फिर जांच कराएंगे, गड़बड़ी मिली तो टेंडर निरस्त होगा.

आरके श्रीवास्तव, नगर आयुक्त