नई दिल्ली (पीटीआई)। सौराष्ट्र के बल्लेबाज शेल्डन जैक्सन ने रणजी ट्रॉफी के इस सीजन में अपनी फिटनेस का बड़ा लाभ उठाया है और कहते हैं कि उन्हें यह प्रेरणा राष्ट्रीय टीम के कप्तान विराट कोहली से मिली है, जिन्होंने भारतीय क्रिकेट में फिटनेस को नए सिरे से परिभाषित किया है। 33 वर्षीय जैक्सन ने लगातार दूसरी बार 800 से अधिक रन बनाए और सौराष्ट्र को तीन असफल प्रयासों के बाद अपने पहले रणजी ट्रॉफी जीतने में मदद की। भावनगर में जन्मे इस बल्लेबाज को लगता है कि पिछले 12 महीनों में उन्होंने अपनी फिटनेस पर जो काम किया है, उससे उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिली।

सिक्सपैक वाले इकलौते सौराष्ट्र क्रिकेटर

साल 2013 में आरसीबी की टीम में शामिल जैक्सन ने विराट के साथ काफी वक्त बिताया था। वह कहते हैं, 'यह वास्तव में विराट की कहानी थी जिसने मुझे प्रेरित किया। उस समय हम उनके सामने कुछ नहीं थे।' जैक्सन खुद को तब बहुत कमजोर मानते थे लेकिन छह सत्रों के बाद, वह सभी प्रारूपों में सौराष्ट्र के मुख्य बल्लेबाज बन गए। वह कहते हैं, 'जिन लोगों ने मेरी मदद की वे सामान्य जिम ट्रेनर थे। मेरे दोस्त, जो अहमदाबाद में मेरे साथ काम करते थे, वे देखते थे कि मैं कड़ी मेहनत कर रहा था लेकिन परिणाम नहीं मिल रहा था। पिछले साल तक मैं कुछ भी खा लेता था लेकिन जिम ट्रेनर ने मुझे प्रदर्शन करने के लिए अच्छा खाना सिखाया। इससे मेरी रिकवरी और ताकत में बहुत फायदा हुआ।' बता दें जैक्सन अपनी टीम में सिक्स पैक वाले इकलौते क्रिकेटर हैं।

इनकम टैक्स ऑफिस में करते हैं काम

अहमदबाद में इनकम टैक्स कार्यालय में काम करने वाले जैक्सन ने पिछले साल भी 854 रन बनाए थे, लेकिन उन्होंने सोचा कि वह फिटनेस को और बेहतर कर सकते हैं। और आज परिणाम सबके सामने है। वह कहते हैं, 'मैं सोचता था कि क्रिकेट हुनर का खेल है, लेकिन मैं पूरी तरह से गलत था। क्रिकेट में टैलेंट के साथ-साथ आपको फिटनेस की भी आवश्यकता होती है क्योंकि यदि आप फिट हैं, तो आप दबाव में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं, खासकर जब आपका शरीर थका हुआ हो।'

भारत ए के लिए खेल चुके मैच

2016 में भारत ए के लिए आखिरी बार खेलने वाले जैक्सन ने कई बार निराशा का अनुभव किया है। सौराष्ट्र ने पिछले साल भी रणजी फाइनल में जगह बनाई लेकिन किसी भी खिलाड़ी को भारत ए टीम में शामिल नहीं किया गया था। पिछले सीजन के बाद सौराष्ट्र के खिलाडिय़ों को नजरअंदाज करने के चयनकर्ताओं के फैसले पर सवाल भी उठे। जैक्सन कहते हैं, 'मेरा मानना ​​है कि रणजी प्रदर्शनों के लिए उचित महत्व दिया जाना चाहिए। यहां तक ​​कि चेतेश्वर पुजारा (उनकी टीम के साथी) ने भी इस बारे में बात की है और अगर उन्होंने यह कहा है, तो जरूर यह बड़ी बात होगी। हमने पिछले 10 वर्षों में बहुत सारी ट्राफियां नहीं जीती हैं लेकिन हम लगातार फाइनल में पहुंच रहे हैं। यह दुखद है कि सौराष्ट्र को एक छोटी टीम के रूप में देखा जाता है। मुझे उम्मीद है कि यह धारणा बाद में जल्द ही बदल जाएगी।'

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk