- इनवेस्टिगेशन ट्रैकिंग सिस्टम फॉर सेक्सुअल अफेंस से करेंगे निगरानी

- सीसीटीएनएस से जुड़ा सर्वर, दो माह में पूरी करनी होगी कार्रवाई

GORAKHPUR: महिलाओं के साथ होने वाले क्राइम की निगरानी शासन से होगी. हर जिले में थानावार दर्ज मुकदमों की प्रोग्रेस रिपोर्ट डीजीपी हेडक्वार्टर में बैठे अफसर जान सकेंगे. महिला उत्पीड़न और सेक्सुअल हरासमेंट के मामलों में दो माह के भीतर अनिवार्य रूप से जांच पूरी करनी होगी. 60 दिन के भीतर मुकदमे में फाइनल रिपोर्ट, चार्जशीट लगाकर कोर्ट में भेजने में लापरवाही संबंधित पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए भारी पड़ सकती है. इनवेस्टिगेशन ट्रैकिंग सिस्टम फॉर सेक्सुअल अफेंस के जरिए निगरानी होने से पुिलस अधिकारी भी हरकत में आ गए हैं. हाल में दर्ज हुए मामलों में चार्जशीट की प्रक्रिया पूरी की जा रही है. एसएसपी ने कहा कि महिलाओं के साथ होने वाले किसी तरह के अपराध में कोताही नहीं बरती जा रही है. सूचना मिलने पर फौरन एक्शन लेने के निर्देश जारी किए गए हैं.

प्रोग्रेस रिपोर्ट होगी ऑनलाइन, देख सकेंगे जिम्मेदार

सभी थानों में महिलाओं के संबंधित दर्ज क्राइम में हुई कार्रवाई के प्रोग्रेस रिपोर्ट ऑनलाइन की जाएगी. किसी भी जगह से संबंधित पुलिस अधिकारी उसकी जांच कर सकेंगे. मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स के वुमन सेफ्टी विंग में इसकी पड़ताल रोजाना हो सकेगी. गवर्नमेंट की नई पॉलिसी लागू होने के बाद से पुलिस ने तेजी दिखानी शुरू करा दी है. हाल के दिनों में शहर के भीतर दर्ज मामलों में जल्द से जल्द चार्जशीट लगाने का निर्देश दिया गया है.

गवर्नमेंट ने बनाई ये व्यवस्था

महिला उत्पीड़न के मामलों में मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स ऑनलाइन नजर रख रही है.

सभी थानों में दर्ज महिलाओं के साथ सेक्सुअल हरासमेंट के मामलों में सजगता और सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है.

इस मामलों की एफआईआर दर्ज होने पर उसे क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया गया है.

सेक्सुअल हरासमेंट के मामले में जांच अधिकारी को फाइनल रिपोर्ट लगाने के लिए 60 दिन की समय सीमा दी गई है.

जल्द ही कोर्ट भेज दी जाएगी चार्जशीट

सिकरीगंज एरिया में आठ साल की मासूम संग रेप और मर्डर के मामले में जांच लगभग पूरी हो चुकी है. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही चार्जशीट कोर्ट में फाइल कर दी जाएगी. इसके अलावा गगहा में नाबालिग के साथ गैंग रेप के मामले में भी पुलिस तेजी से कार्रवाई करने के दावे कर रही है. पुलिस अधिकारियों की मानें तो रेप, रेप और मर्डर के मामलों में कार्रवाई तेजी से चल रही है. न्यूनतम 30 दिन में जांच प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. चार्जशीट जल्द से जल्द फाइल करने की तैयारी है.

इस साल मासूम बच्चियों संग दरिंदगी

15 जुलाई 2019: गुलरिहा एरिया में गलत नीयत से सात साल की बच्ची का अपहरण, गला दबाकर जान लेने की कोशिश की गई.

23 जून 2019: सिकरीगंज एरिया के एक मोहल्ले में आठ साल की मासूम संग दूर के रिश्तेदार ने हाथ-पांव बांधकर रेप किया. अचेत हाल में छोड़कर फरार हुआ.

17 जून 2019: चिलुआताल एरिया में फोर व्हीलर ड्राइवर ने मासूम से रेप किया. हालत बिगड़ने पर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया.

14 जून 2019: सिकरीगंज एरिया में सात साल की मासूम से रेप, मर्डर से सनसनी फैली, आरोपी गिरफ्तार.

13 जून 2019: गगहा एरिया में किशोरी संग पांच युवकों ने रेप किया. पहले समझौते का प्रयास हुआ. बाद में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली.

8 जून 2019: झंगहा एरिया में एक दुकानदार ने टॉफी दिलाने के बहाने पांच साल की बच्ची संग बदसलूकी की. बच्ची की मां की सूचना पर पुलिस ने अरेस्ट किया.

वर्ष अपहरण रेप 2019 183 38

2018 303 83

2017 252 46

वर्जन

महिलाओं के साथ होने वाले खासकर बच्चियों संग हुई घटनाओं में पुलिस तेजी से कार्रवाई कर रही है. जो भी शिकायतें सामने आ रही हैं. उनमें तत्काल पुलिस पहुंच रही. हाल के दिनों में हुई घटनाओं की जांच लगभग पूरी हो चुकी है. जल्द से जल्द चार्जशीट कोर्ट में फाइल कर दी जाएगी.

डॉ. सुनील गुप्ता, एसएसपी