नई दिल्ली (पीटीआई)। आईपीएल का मौजूदा सीजन सस्पेंड हो जाने के बाद सबसे बड़ी समस्या ऑस्ट्रेलियाई प्लेयर्स के सामने आ गई है। वहां की सरकार ने भारत से आने वाली उड़ानों पर फिलहाल रोक लगा रखी है। ऐसे में कंगारु प्लेयर्स अपने घर नहीं जा सकेंगे। आईपीएल बबल में करीब 40 ऑस्ट्रेलियाई शामिल हैं, जिनमें खिलाड़ी, कोचिंग स्टाफ और कमेंटेटर शामिल हैं। ये सभी अपने घर की बजाए मालवदीव का रुख करेंगे। कोलकाता नाइट राइडर्स, दिल्ली कैपिटल, सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपर किंग्स से COVID-19 के कई मामले सामने आने के बाद मंगलवार को IPL को "अनिश्चित काल के लिए निलंबित" कर दिया गया है।

मालदीव रवाना होंगे कंगारु प्लेयर्स
अब जब आईपीएल होगा नहीं, ऐसे में कंगारु प्लेयर्स को यहां से छोड़कर जाना होगा। ये घर जा नहीं सकते, ऐेसे में सभी मालदीव की यात्रा कर सकते हैं। केकेआर के पेसर पैट कमिंस ने स्थिति को अभूतपूर्व बताया। पैट कमिंस ने फॉक्स स्पोर्ट्स को बताया, "एक बार जब हम ऑस्ट्रेलिया से बाहर निकले तो हमें पता था कि हम 14 दिनों के लिए घर आने के लिए साइन अप करेंगे। इसलिए आपको घर से बाहर निकलने में थोड़ी परेशानी महसूस होगी, लेकिन जब सीमा को बंद कर दिया गया तो किसी को भी इसका अनुभव नहीं हुआ।' कमिंस ने कहा, "इसने ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए यहां थोड़ी चिंता बढ़ाई है लेकिन हमने जून की शुरुआत तक टूर्नामेंट खेलने के लिए साइन अप किया था।'

बीसीसीआई ने घर पहुंचाने की ली जिम्मेदारी
27 अप्रैल को, BCCI के अंतरिम मुख्य कार्यकारी अधिकारी, हेमांग अमीन ने सभी आठ फ्रेंचाइजी को एक ईमेल भेजा था जिसमें कहा गया था कि आईपीएल के खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ घर लौटने के बारे में "आशंकित" होंगे। लेकिन उन्होंने यह कहते हुए उन्हें आश्वस्त किया: "बीसीसीआई यह सुनिश्चित करने के लिए सब कुछ करेगा कि आप अपने-अपने गंतव्य स्थानों तक आसानी से पहुंच सकें। निश्चिंत रहें कि बीसीसीआई के लिए टूर्नामेंट खत्म नहीं हुआ है, जब तक कि आप में से प्रत्येक अपने घर पर सुरक्षित नहीं पहुंच गया हो।"