-संजय नगर में जलभराव को लेकर पेट्रोल पम्प सामने लगा दिया जाम, एसीएम फ‌र्स्ट की गाड़ी घेरी

-मेयर के सामने ही क्षेत्रीय पार्षद पर भड़की पब्लिक, सुनाई खरी-खोटी

>BAREILLY :

एक हफ्ते से जलभराव का दंश झेल रहे संजय नगर निवासी सैटरडे को भड़क गए, जब उनकी समस्याओं को सुनने वाला नहीं मिला. गुस्साई महिलाएं और पुरुष सड़कों पर उतर पड़ और रास्ता रोक दिया. पब्लिक के गुस्से भनक जब पुलिस प्रशासन को लगी तो अधिकारियों के कान खड़े हो गए. मौके पर अधिकारी पहुंचे. स्थानीय लोगों ने बंद नाले को खोलवाने की मांग करते हुए एसीएम को घेर लिया. इसी दौरान एक महिला बेहोश होकर गिर पड़ी. जिससे उसे पुलिस की गाड़ी से हॉस्पिटल भेजा गया. पब्लिक के गुस्सा होने की सूचना मिलते ही ई-रिक्शा पर सवार होकर मेयर भी जलभराव वाले एरिया का मुआयना करने पहुंच गए. जहां पब्लिक को स्थिति सुधराने का आश्वासन दिया, जिसके बाद लोग श्ांत हुए.

रोड पर बैठ गई महिलाएं

शहर में 31 जुलाई से हो रही बारिश से हुए जलभराव से स्थिति बेहद खराब होती जा रही है. पानी की निकासी न होने से लोगों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है. इससे एक दिन पहले फ्राइडे को जलभराव को लेकर रेजीडेंसी गार्डन और संजय नगर के लोगों ने जाम लगा दिया था. पानी की निकासी न होने से हुए जलभराव से लोगों संजय नगर के अंदर जाम लगाया. जाम की सूचना पर पहुंची पुलिस ने जाम को खुलवाने का प्रयास किया, लेकिन पब्लिक सुनने को तैयार नहीं थी. दोपहर 11 बजे लोगों ने संजय नगर से स्टेडियम रोड पर आ कर जाम लगा दिया. स्टेडियम रोड पर जाम की सूचना पर पुलिस फोसर्1 पहुंची.

सौतेले व्यवहार का लगाया आरोप

यूथ बिगेड समाजवादी के जिला अध्यक्ष मोहित भारद्वाज ने आरोप लगाया कि संजय नगर के साथ में सौतेला व्यवहार होता है. पार्षद ठेकेदारों मोटा कमीशन मांगते है, इससे कोई भी ठेकेदार काम करने को तैयार नहीं है. संजय नगर में रेजीडेंसी गार्डन, हजियापुर, माडल टाउन, अशोक बिहार, गोसाई गोटिया, गोपाल नगर का पानी लाकर छोड़ा जाता है. इससे मोहल्ले में जल भराव होता है. पूर्व मेयर के समय में लगाया गया नलकूप 12 इंच था. इस समय यहां का पानी की क्षमता 60 इंच की हो गई है. इस कारण से नलकूप फेल हो चुका है. इसकी क्षमता को बढ़ाया जाए और दूसरी कालोनियों का पानी संजय नगर में न छोड़ा जाए.

तत्काल मंगाए गए पम्प सेट

नगर निगम के निर्माण विभाग के एई सुशील कुमार जब मौके पर पहुंचे तो उन्होंने तत्काल पानी की निकासी शुरू कराई. उसके बाद भी लोगों ने जाम नहीं खोला. मौके पर पहुंचे एसीएम प्रथम राजेश कुमार के आने पर पब्लिक ने मांगों को लिखित में पूरा करने की मांग कराने के लिए ज्ञापन दिया. एसीएम ने फोन कर अपर नगर आयुक्त ईश शक्ति सिंह को मौके पर बुलाया और इस समस्या के समाधान के बारे में कहा.

मेयर के पहुंचने पर उग्र हुए लोग

सूचना मिलते ही मेयर डॉ. उमेश गौतम भी नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अशोक कुमार और स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंच गए. मेयर को देखकर लोगों का गुस्सा भड़क गया और मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे. पब्लिक का गुस्सा देखकर मेयर के सुरक्षा गार्डो ने उन्हें अपने घेरे में ले लिया. उसके बाद में मेयर सभी के साथ में संजय नगर में हुए जलभराव का निरीक्षण करने पहुंचे. मेयर को भी मोहित ने नलकूप की समस्या के बारे में बताया. इस पर मेयर ने कहा कि अभी पानी की निकासी की समस्या पर ध्यान दो.

ई-रिक्शा से घूमे मेयर

संजय नगर में अंदर जाने के लिए मेयर ने वहां पर खड़ा ई-रिक्शा पर बैठकर का सहारा लिया. अपने सुरक्षा गार्डो के साथ मेयर पानी के अंदर चलने लगे. वहां पर उन्हें लोगों ने एक-एक गली कर दिखाना शुरू कर दिया. उसी दौरान एक गली में लोगों ने मेयर का ई-रिक्शा को गड्ढे में जाने पर झटका लगा तो ई-रिक्शा को गार्डो ने लोगों ने पकड़ लिया. मोहल्ले में महिलाओं ने भी मेयर को अपनी समस्या काे सुनाया.

क्षेत्रीय पार्षद से पब्लिक ने जताई नाराजगी

संजय नगर में घूमने के दौरान मेयर के पास में क्षेत्रीय पार्षद अवनेश कुमार भी आ गए. उन्हें देखकर लोगों का गुस्सा भड़क गया. लोगों ने कहा कि सुबह से कहां थे. अब मेयर को देखकर फोटो कराने के लिए आ गया है. संजय नगर में विकास का एक काम भी नहीं कराया है. पार्षद और लोगों के बीच में जमकर तकरार हुई, तो मेयर को वहां पर हस्तक्षेप कर पार्षद को हटाना पड़ा. उस समय भी लोगों की भीड़ बढ़ जाने पर मेयर के गार्डो ने लोगों ने समझाया. पब्लिक ने मेयर से पीछे बंद नाला खोलने की मांग की तो मेयर ने कहा कि वह अपने सामने नाला खुलवा देंगे.

==========

पब्लिक ने जाम लगा दिया था, जलभराव का पानी पम्प लगा कर वहां से निकलवा दिया गया है. पब्लिक की समस्या के लिए मैने खुद क्षेत्र घूमकर देखा था. शहर में जलभराव की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए प्रयास कर रहा हूं.

डॉ. उमेश गौतम, मेयर बरेली