-घर-घर हुआ भगवान कृष्ण के जन्म पर आयोजन

-सोहर और बधावा गूंजा, इस्कान मंदिर में हुआ राधा-कृष्ण का अभिषेक

ALLAHABAD: 42 साल बाद आए रोहिणी नक्षत्र और भगवान श्रीकृष्ण के सबसे बड़े भक्त शनि महराज के दिन शनिवार को देवकी नंदन भगवान श्री कृष्ण ने घर-घर में जन्म लिया. श्री कृष्ण के जन्म लेते ही पूरे मंदिरों, देवालयों, मठों और घरों में पूजन-अर्चन के साथ ही बधावा बजा. लड्ड् गोपाल का दूध, दही, घी से अभिषेक किया गया. इस दौरान नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल की.. नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की.. के खूब जयकारे लगे जो देर रात तक गूंजते रहे.

चार्ट पर उकेरी कृष्ण की सात लीलाएं

इस्कान इलाहाबाद की ओर से श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव के उपलक्ष्य में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. इसमें करीब एक हजार से अधिक बच्चों ने भाग लिया. दो महीने तक चले कम्पटीशन का फाइनल रिजल्ट शनिवार को घोषित किया गया. डेढ़ बाई डेढ़ के चार्ट पेपर पर उकेरी गई भगवान श्री कृष्ण की सात लीलाओं को प्रथम पुरस्कार के लिए सलेक्ट किया गया. इसे कानपुर के कमिश्नर शैलेंद्र उपाध्याय की बेटी साल्विका उपाध्याय ने बनाया था. कमिश्नर कानपुर का परिवार इलाहाबाद में ही रहता है.

108 कलश से हुआ का अभिषेक

बलुआघाट स्थित इस्कान मंदिर में तीन सितंबर से चल रहे हरे कृष्णा-हरे कृष्णा, हरे-रामा हरे-हरे.. के मधुर धुन के बीच शनिवार को चांदी के 108 कलश से राधा-कृष्ण का अभिषेक किया गया. 108 आरती पात्र से महाआरती उतारी गई. इस दौरान भक्त गण श्री कृष्ण गोविंद हरे-मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेव..का जाप करते रहे. महाभिषेक समारोह में शामिल होने के लिए हजारों लोग पहुंचे. देर रात हुए अभिषेक के पूर्व सांस्कृतिक समारोह में लोग रस में डूबे रहे. इस्कान मंदिर के संयोजक पूर्णकांत दास व्यवस्था में लगे रहे. किड्जी कल्याणी देवी, बचपन प्ले स्कूल अल्लापुर में मटकी फोड़ एवं डांडिया का आयोजन हुआ. इस मौके पर बच्चों ने भगवान श्रीकृष्ण का मोहक रूप धरा. इसी साज-सज्जा में उन्होंने कृष्णलीला की प्रस्तुतियां देकर सबका दिल जीत लिया.

जुग-जुग जिया हो ललनवा..

कटरा रामलीला कमेटी के राम वाटिका में जयकारों के बीच श्री कृष्ण ने जन्म लिया तो फूलों की बरसात की गई. फूल की होली खेली गई. वहीं भजन, सोहर व बधाई गीत गाई गई. पूर्व मंत्री डा. नरेंद्र कुमार सिंह गौर, सांसद श्यामा चरण गुप्ता ने श्री कृष्ण की पूजा की. कटघर स्थित सिद्धपीठ भोलेगिरि मंदिर में जन्माष्टमी के अवसर पर महाकाल का भव्य श्रृंगार किया गया. पंडित रामलाल शास्त्री, चंदन तिवारी, राजेश केसरवानी, ने श्री कृष्ण का गंगाजल, दूध, दही, शहद से अभिषेक किया. मुट्ठीगंज स्थित नर्वदेश्वर महादेव का भी भव्य श्रृंगार किया गया.

कृष्ण लीला के साथ स्वच्छता अभियान की झांकी

सुबह से दोपहर तक जहां घर-घर व मंदिरों में पूजन-अर्चन का दौर चला. वहीं दोपहर बाद मंदिरों, मठों व घरों में सजाई गई आकर्षक झांकियों को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी. ग्रीनलैंड कारपोरेशन म्योर रोड राजापुर स्थित कृष्ण मंदिर में इस बार कृष्ण जन्माष्टमी पर श्री कृष्ण की लीलाओं के साथ ही स्वच्छता अभियान की झांकी सजाई गई. लूकरगंज स्थित कृष्णा भवन में कृष्ण जन्मोत्सव पर भव्य झांकी और झूला सजाया गया. करेलाबाग में कृष्ण जन्माष्टमी मेला पर लोक नृत्य का आयोजन किया गया. शनिवार को जन्माष्टमी के अवसर पर शनि महाराज का विशेष श्रृंगार हुआ. शनिदेव का जलाभिषेक व तैल अभिषेक किया गया. पुलिस लाइंस में आकर्षक झांकी सजाई गई और विविध प्रोग्राम का आयोजन किया गया.