-पुराणों में भी है मां जयंती सिद्ध पीठ का वर्णन

-पुरातत्व विभाग के अधीन है अविकसित सिद्धपीठ

Hastinapur : महाभारत कालीन पांडव टीला स्थित प्राचीन श्री जयंती माता सिद्धपीठ की महत्ता पुराणों में अंकित है। सिद्ध पीठ श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र भी है। श्रद्धालु अगर सिद्ध पीठ में मां के दर्शन कर मन्नत मांगता है तो उसकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है। दर्शन करने मात्र से ही परिवार में सुख समृद्धि का वास होता है।

पुराना है पीठ का इतिहास

श्री जयंती माता सिद्ध पीठ का इतिहास अत्यंत पुराना है और इसका वर्णन देवी भागवत और शिव पुराण में भी है। पुराणों में वर्णित कथा के आधार पर मंदिर के पुजारी पंडित शैलेंद्र कुमार तिवारी ने बताया कि एक बार राजा दक्ष ने कनखल में महायज्ञ किया और उसमें सभी देवी देवताओं को बुलाया परंतु भगवान शिव को आमंत्रण नही दिया। बावजूद इसके भगवान शिव से माता सती ने महायज्ञ में भाग लेने की जिद कर चली गई। महायज्ञ में सती का अनादर होने पर वह क्रोध में आकर हवनकुंड में सती हो गई। भगवान शिव को इसका पता लगा तो उन्होंने तांडव शुरू कर दिया और सती के शरीर को लेकर ब्रह्मांड में घूमने लगे। देवताओं को परेशान देख भगवान विष्णु ने अपने चक्र से मां सती के शरीर को 108 अंगों में बांट दिया। इनमें से एक अंग हस्तिनापुर में गिरा जिसे जयंती माता कहा गया। जबकि बाकी जहां-जहां गिरे वे स्थान सिद्ध पीठ हो गए।

सुख समृद्धि का होता है वास

श्री जयंती माता सिद्ध पीठ का आभास लोगों को हुआ तो उन्होंने पूजा अर्चना कर मां की मूíत को स्थापित कराया। हालांकि मंदिर का विकास आज तक नहीं हो पाया है। इसका कारण सिद्ध पीठ पांडव टीला पर पुरातत्व विभाग के अधीन होना बताया जाता है। नवरात्र में श्रद्धालु विधि विधान पूर्वक पूजा अर्चना करते हैं और प्रत्येक दिन यज्ञ का आयोजन किया जाता है। उनका मानना है कि इस सिद्ध स्थान कि इतनी मान्यता है कि यहां पूजा अर्चना करने से उनके परिवारों में सुख समृद्धि का वास होता है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner