रांची (ब्यूरो)। इन 13 सीटों का चुनाव ही झारखंड की राजनीति का टर्निग प्वाइंट होगा। पलामू प्रमंडल के नौ विधानसभा क्षेत्र का दौरा कर लौटे सहाय ने कहा कि जहां भी गए, भाजपा कहीं नजर नहीं आई। इस चुनाव में राज्य की जनता भी भाजपा को सबक सीखाने को तैयार है। अगर ईवीएम में खेल हुआ, तो इसके गंभीर परिणाम होंगे। चुनाव आयोग भी होश में रहे, क्योंकि अगर ऐसा हुआ तो देश की राजनीति में आग की शुरुआत झारखंड ही करेगा।

पीएम कर रहे सभा

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने कहा कि 13 सीटों पर चुनाव के पूर्व प्रधानमंत्री दो सभाएं कर रहे हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि भाजपा की इन सीटों पर क्या स्थिति है। यह चुनाव रघुवर दास के जन विरोधी नीतियों के खिलाफ है। रघुवर दास ने जमशेदपुर में एक मोहल्ले का नाम रघुवर नगर करवा दिया है। हर-हर मोदी, घर-घर मोदी के ड्रामे के बाद अब घर-घर रघुवर का ड्रामा हो रहा है। अबकी बार 65 पारा का नारा फेल है, भाजपा डर गई है। झारखंड में पूरे देश के मंत्री लगे हैं।

आज से महागठबंधन लगाएगा जोर

सहाय ने कहा कि महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव, हेमंत सोरेन, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भी 26, 27 व 28 को व्यापक अभियान में जुटेंगे। कहा कि राज्य में एक-एक कर उद्योग बंद होते जा रहे हैं। 90 फीसद उद्योग बंद हो चुके हैं। जमशेदपुर का ऑटोमोबाइल सेक्टर भी बंद हो गया। रघुवर सरकार ने इस राज्य को 84 हजार करोड़ रुपये के घाटे का राज्य बना दिया है। जो भी वादा किया, पूरा नहीं हुआ। नक्सलवाद खत्म नहीं हुआ और भाजपा खात्मे का ढोल पीट रही है। राष्ट्रीय प्रवक्ता जहिरा लफांग ने कहा कि राहुल गांधी और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी झारखंड में चुनाव प्रचार करेंगे। संवाददाता सम्मेलन में सुबोधकांत सहाय के अलावा जहिरा लफांग, प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दुबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजीव रंजन प्रसाद, अनादि ब्रह्मा, अशोक चौधरी आदि मौजूद थे।

ranchi@inext.co.in

Posted By: Sudhir Jaiswal