क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : पुलिस एसोसिएशन और झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन के संयुक्त प्रयास से रविवार को झारखंड पुलिस एसोसिएशन के केंद्रीय कार्यालय में झारखंड पुलिस परिवार प्रतिभा सम्मान समारोह किया गया. डीजीपी कमल नयन चौबे सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए. विभिन्न क्षेत्रों में सफलता पाने वाले पुलिस पदाधिकारियों और कर्मियों के बच्चों को सम्मान समारोह में सम्मानित किया गया. कैट, नीट, आईआईटी, यूपीएससी, मेडिकल समेत विभिन्न क्षेत्रों में सफलता के परचम लहराने वाले कुल 65 बच्चों को डीजीपी ने सम्मानित कर उनका हौसला बढ़ाया. इस दौरान सम्मानित होने वाले बच्चों के परिजन भी मौके पर मौजूद थे. डीजीपी के हाथों सम्मान पाने के बाद लोगों के चेहरे पर खुशियां साफ झलक रही थी. मौके पर मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए डीजीपी ने कहा कि प्रतिभा का सम्मान होना चाहिए. पुलिस विभाग में विभिन्न जगहों पर कार्यरत पुलिस पदाधिकारियों और कर्मियों के बच्चों ने सफलता पाकर अपने माता-पिता, पुलिस विभाग व देश के मान सम्मान को बढ़ाया है. डीजीपी ने सफल हुए सभी बच्चों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की. इस दौरान डीजीपी के अलावा डीआईजी अमोल वेणुकांत होमकर, एसएसपी अनीश गुप्ता समेत अन्य कई पुलिस पदाधिकारी और कर्मी मौके पर मौजूद थे.

विदेशों में भी सेवा दे रहे सपूत

दारोगा के पद से रिटायर्ड हुए कामेश्वर पासवान का बेटा राजू रंजन कुमार पासवान यूनिवर्सिटी ऑफ पुर्तगाल से पीएचडी पूरा करने के बाद मैक्सिको में असिस्टेंट प्रोफेसर के रूप में कार्यरत है. राजू रंजन कुमार पासवान की सफलता के बाद से उसके परिवार के लोगों में खासा उत्साह है. डीजीपी के हाथों सम्मान पाने के बाद सभी काफी खुश नजर आए. इसके अलावा डीएसपी के पद से रिटायर्ड हुए राजेंद्र कुमार चौधरी की बेटी डॉ सिल्पी श्वेता पांडीचेरी से एमबीबीए कंप्लीट करने के बाद आगरा स्थित एसएन मेडिकल कॉलेज में अपनी सेवा दे रही है. इसी प्रकार पुलिस विभाग में कार्यरत कई पुलिस पदाधिकारी और कर्मी के बच्चे देश-विदेश के विभिन्न जगहों पर अपनी सेवा दे रहे हैं.

पहली बार आयोजन

यह पहला मौका था जब झारखंड राज्य के विभिन्न जगहों पर पदस्थापित पुलिस पदाधिकारियों और कर्मियों के बच्चों को सफल होने के बाद डीजीपी ने सम्मानित किया है. झारखंड पुलिस एसोसिएशन और झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन के संयुक्त प्रयास से यह सम्मान समारोह का आयोजन किया गया था. एसोसिएशन की मानें तो आने वाले दिनों में भी इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, ताकि सफलता पाने वाले बच्चों में एक नई ऊर्जा का संचार किया जा सके. सम्मानित होने वाले बच्चों का कहना था कि वे अपने परिवार के सहयोग की वजह से ही यह मुकाम हासील किया है. अभी सिर्फ शुरुआत हुई है. आने वाले समय में वे लोग अपने काम से राज्य और देश की सेवा कर पुलिस परिवार का नाम रौशन करेंगे.