RANCHI: सिटी में कोरोना वायरस का एक भी मरीज नहीं मिला है। अब तक जितने लोगों का ब्लड सैंपल लिया गया है, उन सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इस बीच बुधवार को रिम्स से रांची के तीन और संदिग्ध का सैंपल लिया गया है। तीनों लोग रांची के ही रहने वाले हैं। पिछल 6 मार्च को जर्मनी से लौटे हैं। इधर, कोरोना को लेकर सिटी अलर्ट मोड में है, लेकिन बचाव के लिए जरूरी सामान की किल्लत होती जा रही है। हैंड सेनिटाइजर से लेकर मास्क तक आउट ऑफ स्टॉक हो चले हैं। वैसे, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने चेताया है कि मास्क व सैनिटाइजर की कालाबाजारी करने वालों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा।

पलामू के मरीज का भी सैंपल नेगेटिव

रिम्स में दर्जनों संदिग्ध मरीजों की जांच में अब तक किसी में भी कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। बीते शुक्रवार को रिम्स पहुंचे पलामू के एक संदिग्ध का सैंपल जांच के लिए सोमवार को ही कोलकाता भेजा गया था। मंगलवार रिपोर्ट आया, जो निगेटिव है। इस बीच बुधवार को रिम्स से जिन तीन लोगों के सैंपल लिए गए हैं, उन्हें भी जांच के लिए एनआइसीईडी-कोलकाता भेजा गया है। रिम्स में माइक्रोबायोलॉजी विभाग के एचओडी डॉ मनोज कुमार ने बताया कि तीनों संदिग्ध बीते 6 मार्च को जर्मनी से रांची लौटे हैं। उनमें कोरोना के लक्षण सर्दी, खांसी, बदन दर्द आदि पाए गए हैं। तीनों को फिलहाल रिम्स के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। डॉ मनोज कुमार के अनुसार शुक्रवार तक तीनों की रिपोर्ट मिल जाएगी। उसके बाद ही कोरोना वायरस की पुष्टि हो सकेगी।

अब तक 11 रिपोर्ट नेगेटिव

झारखंड में भी विदेश से आने वाले मरीजों पर नजर रखी जा रही है। बीते कुछ दिनों में रिम्स में 11 अलग-अलग मरीजों की सैंपल जांच के लिए एनआइसीईडी-कोलकाता भेजी गई थी। जिनका रिपोर्ट नेगेटिव आया है। यह राज्य के लिए राहत की बात है। स्वास्थ्य विभाग लगातार लोगों के बीच कोरोना वायरस को लेकर भ्रांतियां दूर कर रहा है। अस्पताल समेत अन्य पब्लिक प्लेस में जागरुकता अभियान चला रहा है।