रांची (ब्यूरो): अभी तक आधार कार्ड के एड्रेस पर ही ड्राइविंग लाइसेंस बनाया जा रहा था, इसका फायदा बहुत सारे लोगों ने गलत तरीके से भी उठा लिया है। कई लोग दूसरे शहरों में रहते हैं और रांची में आधार अपडेट करके एड्रेस चेंज कराया और नया ड्राइविंग लाइसेंस राजधानी रांची से जारी करवा रहे हैं। हाल ही में ऐसे मामले संज्ञान में आने के बाद आधार कार्ड और वोटर आईडी कार्ड का स्कैन से वेरीफाई किया जाएगा। इसमें मूल कार्ड से मिलान होगा। दोनों का एड्रेस सेम होने पर ही ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जाएगा।

निकला भभुआ का एड्रेस

रांची में एक आवेदक ने अपने आधार कार्ड में रांची का पता दिखाकर ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन किया था। जब लर्निंग लाइसेंस के लिए काउंटर पर गया तो आधार कार्ड मेें भोजपुर का पता होने की जानकारी मिली, जबकि आधार कार्ड में रांची का पता दिखाया गया था।

डीजी लॉकर भी मान्य होगा

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए आवेदक को डीटीओ ऑफिस में मूल आधार कार्ड दिखाना होगा। आधार कार्ड और वोटर कार्ड में नाम और आवासीय पता एक होने पर ही आगे का प्रोसेस होगा। इसके अलावा डीजी लॉकर का आधार कार्ड भी आवेदक दिखा सकता है।

सरकार ने बदले डीएल बनवाने के नियम

जानकारी के अनुसार, केंद्र सरकार ने लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के नियमों में बदलाव किया है। इसके तहत अब लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस आपके आधार कार्ड वाले जिले में ही बनेगा। आवेदक को ऑनलाइन ही टेस्ट देना होगा। बस आधार कार्ड को लिंक कराना होगा। वैसे ये नया नियम ऑनलाइन आवेदन करने वालों के लिए ही है। इतना ही नहीं, नए नियम के तहत लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस जिस जिले से बना होगा परमानेंट भी वहीं से कराना होगा। इसके लिए आवेदक को अपने आधार से संबंधित जिले में जाना होगा।

इसलिए बदला गया नियम

सरकार ने नियम में बदलाव इसलिए किया है, क्योंकि लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के लिए फेसलेस टेस्ट होता है, जबकि मैन्युअल टेस्ट में आवेदक किसी भी जिले से लर्निंग डीएल बनवा सकता है। वहीं, लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस के लिए फेसलेस टेस्ट में आधार कार्ड से ही पते का सत्यापन हो रहा है। इसलिए, आवेदक का जिस जिले में आधार कार्ड बना है, वहीं से अपना लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना पड़ेगा।

रांची से ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए अब आधार कार्ड और वोटर कार्ड रांची का ही बना होना चाहिए। उसका रेसिडेंशियल ऐड्रेस रांची में होना जरूरी है। गलत तरीके से फर्जी एड्रेस दिखाकर लाइसेंस बनाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

प्रवीण प्रकाश, डीटीओ, रांची