रांची (ब्यूरो)। रांची के बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर 15 नवंबर तक इनलाइन बैगेज स्कैन सिस्टम काम करने लगेगा। पहले यहां पर इनलाइन बैगेज सिस्टम के तहत मशीनें इंस्टॉल की जाएंगी। इसके बाद एयरपोर्ट ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (एएआई) की सिक्योरिटी एजेंसी इसका निरीक्षण करेगी। एनओसी मिलने के बाद इसका संचालन शुरू हो जाएगा। देश के सभी बड़े एयरपोर्ट पर इसी तरह की व्यवस्था लागू है। इससे यात्रियों का समय भी बचेगा।

क्या है बैगेज स्क्रीनिंग सिस्टम

अभी तक यात्री खुद अपने बैगेज की स्क्रीनिंग करवाते थे। उसके बाद बैगेज को एयरलाइंस के चेक इन काउंटर पर भेजा जाता है। अब बैगेज सीधे एयरलाइंस ही स्कैन करेगी, जिसे ऑटोमेटिक मशीनों से किया जाएगा। अत्याधुनिक मशीन ऑटोमेटिक स्कैन बेल्ट से यात्रियों के सामान को स्कैन करेगी।

करीब 12 करोड़ होंगे खर्च

रांची एयरपोर्ट पर लगने वाले इनलाइन बैगेज स्क्रीनिंग पर करीब 12 करोड़ रुपए खर्च किया जाएगा। हवाई अड्डे पर यात्रियों के सूटकेस आदि की जांच की आधुनिक प्रणाली 'इन-लाइन बैगेज स्क्रीनिंगÓ शुरू की जाएगी। इससे यात्रियों के सूटकेस व अन्य सामान की जांच आदि अधिक प्रभावी व त्वरित होगी। यह नई व्यवस्था शुरू होने से यात्रियों को 'चेक-इनÓ काउंटर पर अपना सामान छोडऩे से पहले उसे स्कैन करने की आवश्यकता नहीं होगी। इस सुविधा से यात्री तेजी से 'चेक इनÓ कर सकेंगे। इससे समय भी कम लगेगा और भीड़ भी कम होगी।

एयरपोर्ट भी सुरक्षित रहेगा

बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के एक अधिकारी ने बताया कि इनलाइन बैगेज स्क्रीनिंग सिस्टम शुरू हो जाने के बाद यात्रियों को तो सुविधा मिलेगी, साथ ही उनका समय भी बचेगा। इस पूरी प्रक्रिया में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी किया जाएगा। क्योंकि इस सिस्टम के शुरू हो जाने के बाद मैनुअल सिस्टम नहीं के बराबर काम करेगा। वहां काम करने वाले लोगों को फिजिकली खड़ा नहीं रहना होगा, क्योंकि सारा सिस्टम ऑटोमेटिक काम करेगा। इसके अलावा इस सिस्टम के शुरू हो जाने के बाद अगर कोई भी व्यक्ति प्रोविटेड समान फ्लाइट से ले जाने की कोशिश करेगा तो वह पकड़ा जाएगा, क्योंकि यह पूरी तरह से हाईटेक सिस्टम मशीन है।

दो नए एयरोब्रिज भी बनेंगे

बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पर यात्रियों को परेशानी न हो, इसके लिए एयरपोर्ट टर्मिनल से फ्लाइट तक पहुंचने के लिए दो एयरोब्रिज भी बनाए जाएंगे। वर्तमान में दो एयरब्रिज हैं, जिससे यात्री एयरपोर्ट से फ्लाइट तक आते हैं और जाते हैं। अभी यात्रियों की संख्या बढऩे के बाद एयर ब्रिज पर भी लोगों को काफी लंबी लाइन लगानी पड़ती है। जब दो नए एयरब्रिज लग जाएंगे तो यात्रियों को लंबी कतार से मुक्ति मिलेगी और समय की बचत भी होगी।