RANCHI:रांची में रेलवे से माल भेजना अब और आसान होगा। रांची रेल मंडल ने शहर में सिटी बुकिंग सेंटर खोलने का फैसला किया है। इससे न केवल रेलवे के राजस्व में बढ़ोतरी होगी बल्कि व्यापारियों को भी सहूलियत होगी। नई व्यवस्था के तहत जल्द ही व्यापारियों को पार्सल बु¨कग के लिए रेलवे स्टेशन तक आने की जरूरत नहीं पड़ेगी। शहर के बीच में सिटी बु¨कग सेंटर की स्थापना होने से व्यापारी अपने माल की बु¨कग करा सकेंगे। साथ ही उन्हें अपने माल को स्टेशन तक ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, बल्कि सेंटर तक ही उन्हें अपने सामान को पहुंचाना होगा।

देने होंगे एक्स्ट्रा पैसे

सेंटर संचालक पर सामान को रांची रेलवे स्टेशन ले जाने की जिम्मेदारी होगी। हालांकि, इसके लिए व्यापारियों को पार्सल बु¨कग के शुल्क के अतिरिक्त स्टेशन तक ले जाने के लिए कुछ एक्स्ट्रा पैसे देने होंगे। निर्धारित शुल्क के आधार पर ही इसकी बु¨कग हो सकेगी। सिटी बु¨कग सेंटर के संचालन के लिए संबंधित व्यापारी या एजेंसी का चयन किया जाएगा। इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

देश में कई जगह शुरुआत

देश के कई स्टेशनों पर इसकी शुरुआत की जा चुकी है। हाल ही में इस मामले को लेकर रेलवे पदाधिकारियों और व्यापारियों के संग चर्चा हुई थी। इसे लेकर एक बार फिर से रेलवे की उत्सुकता बढ़ी है।

प्लेटफॉर्म का होना है एक्सटेंशन

रेलवे प्रबंधन का कहना है कि प्लेटफार्म का एक्सटेंशन होना है। प्लेटफॉर्म के एक्सटेंशन होते ही शेड की भी व्यवस्था उपलब्ध करा दी जाएगी। ऐसे में पार्सल वैन से सामान निकालने में किसी भी तरह की दिक्कत नहीं होगी। इस दिशा में जल्द ही पहल की जाएगी। रांची रेल मंडल में रोजाना 15 टन पार्सल की बु¨कग होती है। ट्रेनों के परिचालन बढ़ने से इनकी संख्या आने वाले दिनों में और बढ़ेगी। रांची रेल मंडल के सीनियर डीसीएम अवनीश कुमार का कहना है कि प्लेटफार्म नंबर 4 और 5 पर शेड की व्यवस्था नहीं है। प्लेटफॉर्म का एक्सटेंशन होते ही शेड की भी व्यवस्था साथ में होगी। हालांकि पार्सल सामान को सुरक्षित उतारा जाता है ताकि बारिश में न भींगे।

झेलनी पड़ रही है चुनौती

रेलवे एक तरफ जहां माल ढुलाई बढ़ाने के लिए विभिन्न तरह का प्रयास कर रहा है, वहीं अव्यवस्था के कारण व्यापारियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। प्लेटफार्म पर शेड नहीं रहने के कारण पार्सल को खुले में रखा जाता है। बारिश होने पर ये पार्सल में रखे सामान खराब हो जाते हैं। खामियाजा व्यापारियों को उठाना पड़ता है। दरअसल रांची रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर चार और पांच पर शेड की व्यवस्था नहीं है। रेल प्रशासन को व्यापारियों ने इस समस्या से अवगत भी कराया है। इसके बावजूद कई दफा प्लेटफार्म नंबर 4 और 5 पर ट्रेन को लाकर खड़ा कर दिया जाता है। प्लेटफार्म नंबर दो और तीन में ट्रेन से उतारे जानेवाले सामान सुरक्षित रहते हैं। प्लेटफार्म खाली नहीं होने पर अक्सर बिना शेड वाले प्लेटफार्म पर ट्रेन को खड़ा कर दिया जाता है।

पार्सल बु¨कग में बढ़ोतरी और व्यापारियों की तैयारियों को देखते हुए रेलवे सिटी बु¨कग सेंटर की शुरुआत रांची रेल मंडल में करने का मन बना रहा है। इससे व्यापारियों को अपने माल को स्टेशन तक खुद भेजने की जरूरत नहीं पड़ेगी। बल्कि सेंटर द्वारा ही यह सभी कार्य पूरे किए जाएंगे।

अवनीश कुमार, सीनियर डीसीएम, रांची रेल मंडल