लखनऊ (ब्यूरो)। कमलेश तिवारी के शरीर में ज्यादातर वार धारदार हथियार या चाकू के निशान के हैं। इसके अलावा एक गोली भी मारी गई थी। पोस्टमार्टम में उनके शरीर पर कई गहरे जख्मों के निशाने मिले हैं। साथ ही उनके जबड़े में मारी गई गोली उनकी पीठ से बरामद हुई है, जिसे फॅरेंसिक जांच के लिए सुरक्षित कर लिया गया है। हत्यारों ने ताबड़तोड़ वार किये, जिससे यह लग रहा है कि कई वार से कमलेश की मौत की पुष्टि करना चाहते थे?

लगातार किए गए शरीर पर वार

कमलेश की छाती पर धारदार हथियार से 8 वार किए गए थे। इसके अलावा 3 पीठ पर वार किए गए। यह वार चाकू या फिर किसी धारदार हथियार से किए गए। पोस्टमार्टम में जबड़े में मारी गई गोली की रिकवरी हुई है, जो कि पीछे की तरफ पीठ पर फंसी मिली।

पत्नी की तहरीर पर हत्या का केस 8

कई घंटे की मानमनौव्वल के बाद देर शाम डीएम और एसएसी के समझाने पर पत्नी किरन ने नाका थाने में पति कमलेश की हत्या की तहरीर दी, जिस पर पुलिस ने दो अज्ञात समेत बिजनौर के इमाम मौलाना अनुवारुल हक पर हत्या के आरोप की रिपोर्ट दर्ज की। कमलेश की पत्नी ने तहरीर में लिखा है कि दोपहर करीब 12।30 बजे उनके पति मकान के प्रथम तल स्थित अपने कार्यालय में कुर्सी पर बैठे थे। वह दो अज्ञात व्यक्ति से बात कर रहे थे। वह अंदर के कमरे में थी। 4 से 5 मिनट तक बात-चीत व आवाज न होने पर वह बाहर निकल कर कार्यालय आई तो देखा पति खून से लथपथ गिरे पड़े हैं और दोनों अज्ञात व्यक्ति जिससे वह बात कर रहे थे वह नीचे की तरफ भाग गए।

तीन वर्ष पूर्व मिली थी सिर कलम करने की धमकी

कमलेश की पत्नी किरन ने बताया कि तीन वर्ष पहले वर्ष 2016 में मेरे पति का सिर कलम करने पर मोहम्मद मुफ्ती नमीम काजमी, कीरतपुर थाना भनेड़ा बिजनौर व इमाम मौलाना अनुवारुल हकने 1।5 करोड़ घोषित किया था। उन्हीं लोगों ने साजिश कर मेरे पति की हत्या कर दी।

lucknow@inext.co.in

Posted By: Shweta Mishra

National News inextlive from India News Desk