-सीबीगंज में खड़ऊआ के पास कान्हा उपवन में रहेंगे जानवर

-दिवाली से पहले शुरू हो जाएगा निगम का कान्हा उपवन

<द्गठ्ठद्द>क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ<द्गठ्ठद्दद्गठ्ठस्त्र> :

बरेलियंस के लिए खुशखबरी है. नगर निगम की योजना सफल रही तो दिवाली तक शहर के सड़कों पर छुट्टा गाय, सांड और आवारा कुत्ते नजर नहीं आएंगे. इन जानवरों को खड़उआ स्थित कान्हा उपवन में 24 घंटे रखा जाएगा, जहां इनके रहने खाने और घूमने का पूरा इंतजाम नगर निगम कर रहा है. सड़क पर जानवर के अचानक आ जाने से हादसे भी होते हैं, जिनमें तमाम लोग गंभीर रूप से घायल होने के साथ ही जान भी गंवा चुके हैं.

5 हजार जानवरों की कैपेसिटी

सीबीगंज में खड़ऊआ में बनाए गए इस कान्हा उपवन में 5 हजार जानवरों को रखने की व्यवस्था है. कान्हा उपवन में कुत्ते, गाय, बैल, भैंस और रखा जाएगा. ताकि रोड या फिर मोहल्ला-कॉलोनी में लोगों को आवारा जानवरों से होने वाली प्रॉब्लम से छुटकारा दिलाया जा सके. कान्हा उपवन में नगर निगम की तरफ से एक तालाब भी बनाया गया है. जहां जानवर पानी पी सकते और नहा भी सकते हैं. जानवरों के रहने के लिए कान्हा उपवन में कवर्ड एरिया, ड्रेसिंग रूम और ओपन एरिया भी रखा गया है ताकि बारिश या फिर धूप में उन्हें कोई प्रॉब्लम न हो. कान्हा उपवन में छांव वाले पौधे भी लगाए गए हैं.

देखरेख के लिए पार्षद की कमेटी

नगर निगम के इस कान्हा उपवन में देखरेख और जानवरों की खिलाने पिलाने के लिए तो स्टाफ रहेगा. लेकिन स्टाफ और जानवरों की निगरानी के लिए नगर निगम के पार्षदों एक टीम बनाई गई है. जिसका अध्यक्ष राजकुमार गुप्ता को बनाया गया है. कान्हा उपवन में कोई भी कमी पाए जाने पर यह कमेटी दूर भी करेगी और दूर नहीं कर सकती है तो उस समस्या के बारे में नगर निगम को अवगत कराएगी.

गाय के लिए तैनात होगा 'गाय बाबू'

नगर निगम पकड़े गए आवारा जानवरों के लिए अलग-अलग पोस्ट पर देखरेख के लिए स्टाफ की तैनाती करेगा. जिसमें गाय के लिए 'गाय बाबू' की तैनाती की जाएगी. वहीं अन्य पशुओं के लिए भी इसी तरह तैनाती पद वार की जाएगी.

कुत्तों का होगा स्ट्रेलाइजेशन

नगर निगम उन्हीं जानवरों को पकड़ेगा जिन्हें वह संरक्षित कर सके. इसमें घोड़ा आदि को नहीं पकड़ेगा. अफसरों का कहना है आवारा कुत्तों को पकड़कर ओटी में स्ट्रेलाइजेशन किया जाएगा. जिसके बाद कुत्ता को तीन दिन तक कन्हा उपवन में ही रखा जाएगा. इसके बाद उसे जंगल में छोड़ दिया जाएगा.

..तो गोशाला से भी होगी इनकम

रोड पर पकड़ी गई गाय, बैल, भैंस आदि को कान्हा उपवन में रखा जाएगा. जिसमें से गाय की एक गौशाला भी खुलेगी. अफसरों का मानना है कि गौशाला खोलने के उन्हें गाय तो खरीदनी नहीं पड़ेगी और गाय के दूध से इनकम और बढ़ जाएगी.

256 रुपया प्रतिदिन जुर्माना

नगर निगम की टीम रोड से अब तक जैसे ही आवारा जानवरों को पकड़ती थी वैसे ही कोई न कोई दावेदार सामने आ जाता था और जानवर को छुड़ा ले जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. नगर निगम में पहुंचकर अपना जानवर बताने वालों को अब गवाह पेश करने के साथ के साथ जेब भी ढीली करनी पड़ेगी. इसके लिए नगर निगम 256 रुपए प्रतिदिन प्रति जानवर के हिसाब से जुर्माना वसूलेगा.

===============

दिवाली से पहले नगर निगम का सीबीगंज के खड़ऊआ में बनाया गया कान्हा उपवन शुरू हो जाएगा. जिसमें रोड पर घूमने वाले जानवरों और कुत्तों को पकड़कर रखा जाएगा. इसकी क्षमता 5 हजार जानवरों को रखने की है.

राजेश श्रीवास्तव, नगर आयुक्त, बरेली