-अशोक नगर चौराहे पर पिछले साल जलाई गई थी अमर जवान ज्योति, लेकिन आज कोई पूछने वाला नहीं

-पिछले 6 महीनों से नहीं जली ज्योति, सीयूजीएल कंपनी ने ली थी गैस सप्लाई की पूरी जिम्मेदारी

kanpur@inext.co.in

KANPUR : काम कर नाम लूट लिया और अब भूल गए. पिछले साल जुलाई महीने में अमर जवान ज्योति का इनॉग्रेशन अशोक नगर चौराहे पर किया गया था. शहीदों को समर्पित चौराहे का बड़े ही हर्षोल्लास के साथ शहवासियों ने वेलकम किया था, लेकिन अब इसका हाल कोई पूछने वाला नहीं है. सीयूजीएल कंपनी ने गैस की सप्लाई की पूरी जिम्मेदारी ली थी. लेकिन, लापरवाह अधिकारियों की वजह से ये ज्योति पिछले 6 महीने से बुझी है. 15 अगस्त के मौके पर भी किसी को ज्योति जलाने की याद नहीं आई.

दिल्ली की तर्ज पर जलाई गई

सिटी में भी दिल्ली की तर्ज पर अमर ज्योति जलाई गई थी. इसका इनॉग्रेशन महापौर प्रमिला पांडेय, बिग्रेडियर नवीन सिंह ने किया था. इनॉग्रेशन के बाद यह अमर जवान ज्योति कुछ समय तक जली. उसके बाद इसे दिन में बंद किया जाने लगा और अब हालत यह है कि चाहे दिन हो या रात, शहीदों की याद में जलाई गई इस ज्योति की ज्वाला हमेशा के लिए शांत कर दी गई.

-----------

रखरखाव न होने से खराब

अमर जवान ज्योति के चारों तरफ शीशे की दीवार लगाई गई थी. ज्योति को सुरक्षित रखने के लिए बनाया गया पैडस्टल भी खराब हो गया है. इसका फ्रेम को पूरी तरह से जंग लगने के साथ जर्जर हो चुकी है. वहीं सीयूजीएल अफसरों ने दावा किया था कि दिल्ली में जिस तरह अमर जवान ज्योति जलती है, उसी तरह कानपुर के अशोकनगर चौराहा पर भी यह अमर जवान ज्योति 24 घंटे जलेगी.

-----------

ज्योति जलाने का किया दावा

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने जब कंपनी के डिप्टी मैनेजर मुई खान से बात की तो उन्होंने 10 मिनट में ज्योति को जलाने का दावा किया. उनके मुताबिक कार्बन आने की वजह से ज्योति बुझ गई है. लेकिन दावों के उलट पिक्चर्स में साफ देखा जा सकता है कि इसका कोई रखरखाव नहीं किया गया है. टाइल्स उखडे़ हैं, पेंटिंग नहीं की गई है और शीशें तक चटक गए हैं.

-------------

होर्डिग तक नहीं हटाई गई

मामले में नगर निगम भी कम लापरवाह नहीं है. चौराहे की ग्रिल पर चारों और होर्डिग और बैनर लगे हुए हैं. नगर निगम का हर बड़ा अधिकारी इस चौराहे से गुजरता है, लेकिन किसी ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया. इसके चारों तरफ से पॉलिटिकल और अन्य संगठनों ने अपनी होर्डिंग्स से ढक रखा है. जबकि नगर निगम सदन से भी इस बात के आदेश पारित किये गए थे कि अमर जवान चौक से लेकर महापुरुषों की प्रतिमास्थल के घेरे में किसी प्रकार की होर्डिंग नहीं लगेगी.

--------------

मैं मानता हूं कि गलती हुई है. 10 मिनट में कर्मचारियों को भेजकर ज्योति जला दी जाएगी. पूरा रखरखाव चौराहे का किया जाएगा.

-मुई खान, डिप्टी मैनेजर, सीयूजीएल.