kanpur@inext.co.in

KANPUR: ट्रेनों में पैसेंजर्स को अब उनके घर के खाने की कमी नहीं खलेगी. आईआरसीटीसी पैसेंजर्स को खाने में उनकी लोकल और फेवरिट डिश परोसेगा. पूर्वाचल बिहार से चलने वाली ट्रेनों में पैसेंजर्स बिहार की स्पेशल डिश का जायका ले सकेंगे. आईआरसीटीसी ने बिहार से विभिन्न रूटों पर चलने वाली अधिकतर ट्रेनों में पूर्वाचल की स्पेशल डिश लिट्टी-चोखा व चूड़ा-दही पैसेंजर्स को उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है. आईआरसीटीसी पीआरओ सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि पैसेंजर्स की रिक्वेस्ट को देखते हुए आईआरसीटीसी ने यह निर्णय लिया है.

वेंडर करेंगे पैसेंजर्स का वेलकम
आईआरसीटीसी पीआरओ सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि ट्रेनों की पेंट्रीकार में कार्यरत वेंडर्स को सभ्यता का पाठ सिखाया जा रहा है. वेंडर ट्रेनों में सफर करने वाले पैसेंजर्स का वेलकम करने के साथ ही उन्हे गुड मॉर्निग कहकर रिस्पेक्ट देंगे. इसके लिए ट्रेनों की पेंट्रीकार के मैनेजरों को आदेश जारी किए जा चुके हैं. वेंडर व वेटर की ट्रेनिंग भी शुरू हो चुकी है.

क्या मिलेगी मेन्यु में

- लिट्टी-चोखा

- चूड़ा-दही

- देहाती चिकन

- दालपूड़ी के साथ सब्जी

- मूंग घुघनी

- सत्तू पराठा के साथ दही

कुक को दी जा रही ट्रेनिंग
पीआरओ ने बताया कि अक्सर पैसेंजर्स को ट्रेनों में घर जैसा खाना न मिलने की शिकायत होती है. इस शिकायत को दूर करने के लिए आईआरसीटीसी पेंट्रीकार में कार्यरत कुक को स्पेशल ट्रेनिंग दे रहा है. जिससे वह पैसेंजर्स को घर जैसे खाने का जायका दे सके. उन्होंने बताया कि दानापुर स्थित एक संस्था कुक, वेंडर व वेटर को विभिन्न प्रकार की ट्रेनिंग दे रही हैं.

आंकड़े

- 70 से 80 ट्रेनें बिहार की तरफ से कानपुर आती है.

- 7 प्रकार की स्पेशल डिश रखी गई हैं मेन्यू में

- 10 लाख से अधिक पैसेंजर्स को मिलेगा लाभ

कोट

पैसेंजर्स को उनकी फेवरिट लोकल डिश और घर के खाने जैसा स्वाद मुहैया कराने के उद्देश्य से इस सेवा की शुरुआत की गई है. इसके साथ ही खाने की क्वॉलिटी में विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

सिद्धार्थ सिंह, पीआरओ, आईआरसीटीसी

---------------------------

ट्रेन साधारण हो या फिर राजधानी शताब्दी. सफर के दौरान सबसे ज्यादा परेशानी होती है मनपसंद खाना न मिलने की. अगर रेलवे इस तरह की सुविधा शुरू करने जा रहा है तो यह बेहद अच्छा कदम है.

----

ट्रेन में सफर के दौरान घर के खाने की याद बहुत आती है. अगर पैसेंजर्स को उसके घर के खाने जैसा स्वाद ट्रेन में मिलने लगेगा तो सफर का मजा देागुना हो जाएगा. रेलवे की शानदार पहल है ये.

----

रेलवे पैसेंजर्स को उनके घर का खाना खिलाए या फिर अपने घर का लेकिन सबसे पहले उसकी क्वॉलिटी सुधारने पर ध्यान दे. तमाम दावों के बाद भी ट्रेनों में पैसेंजर्स को घटिया खाना परोसा जा रहा है.