-जूही यार्ड में वीआईपी ट्रेनों के लिए बनेगा व‌र्ल्ड क्लास फैसिलिटीज वाला नया स्टेशन, एनसीआर अफसरों ने दिया ग्रीन सिग्नल

-दिल्ली-हावड़ा रूट की ट्रेनों को गोविंदपुरी, न्यू कानपुर स्टेशन से चंदारी के रास्ते सीधे पास कर दिया जाएगा, सेंट्रल का लोड होगा कम

-मंजूरी के लिए रेलवे बोड को भेजा गया है प्रपोजल, डीएफसी लाइन शुरू होने के बाद स्टार्ट होगा कंस्ट्रक्शन

- प्लेटफार्म खाली होने के इंतजार में आउटर पर नहीं रुकेंगी ट्रेनें, दिल्ली-हावड़ा रूट की ट्रेनों को कम दूरी तय करनी होगी

KANPUR। वीआईपी ट्रेनों के लिए लिए शहर में नया वीआईपी स्टेशन बनाने की भी तैयारी शुरू हो गई है। जूही यार्ड में बनने वाले व‌र्ल्ड क्लास फैसिलिटीज से लैस इस स्टेशन को न्यू कानपुर स्टेशन के नाम से जाना जाएगा। कानपुर रेलवे अधिकारियों के बनाए गए इस प्रपोजल को एनसीआर रीजन के ऑफिसर्स ने भी अपनी ओर से इसे पास कर दिया है। अब सिर्फ रेलवे बोर्ड की ओर से ग्रीन सिग्नल मिलना बाकी है। इस स्टेशन पर दिल्ली-हावड़ा रूट की उन वीआईपी ट्रेनों का ठहराव होगा जो कानपुर सेंट्रल नहीं आएंगी। इन्हें गोविंदपुरी से चंदारी होते हुए पास कराया जाएगा। ऑफिसर्स के मुताबिक, डीएफसी(डेडीकेटेड फ्रेड कॉरीडोर) शुरूहोने के बाद स्टेशन का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा।

----

सेंट्रल स्टेशन का लोड होगा कम

एनसीआर सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह ने बताया कि जूही यार्ड में न्यू कानपुर स्टेशन बन जाने के बाद कानपुर सेंट्रल स्टेशन से पैसेंजर्स व ट्रेनों का लोड कम होगा। इससे लाखों कानपुराइट्स को बड़ी राहत मिलेगी। जूही यार्ड कानपुर व गोविंदपुरी स्टेशन के बीच में है। जहां से दो लाइनें अप व डाउन चंदारी स्टेशन की तरफ मुड़ जाती हैं। वर्तमान में इस रूट से इलाहाबाद-नई दिल्ली दुरंतो व गुड्स ट्रेनों को पास कराया जाता है। डीएफसी लाइन शुरू होने के बाद गुड्स ट्रेनें उस ट्रैक में शिफ्ट हो जाएंगी। जिसके बाद यह दोनों ही ट्रैक खाली हो जाएंगे। इन ट्रैक पर पैसेंजर्स ट्रेनों का संचालन कर कानपुर सेंट्रल स्टेशन का लोड काफी कम किया जा सकेगा।

आउटरों में नहीं खड़ी होंगी ट्रेनें

रेलवे ऑफिसर्स के मुताबिक, वर्तमान में कानपुर सेंट्रल स्टेशन में ट्रेनों का डेढ़ गुना अधिक लोड है। इसकी वजह से प्लेटफार्म खाली नहीं रहते है। ट्रेनों का आउटर पर काफी समय तक रोक दिया जाता है। न्यू कानपुर स्टेशन जूही यार्ड में बनने के बाद कानपुर सेंट्रल स्टेशन से ट्रेनों व पैसेंजर्स का लोड कम होगा। जिससे कानपुर सेंट्रल स्टेशन जाने वाली दिल्ली-हावड़ा व दिल्ली-लखनऊ रूट की ट्रेनें आउटर में नहीं खड़ी होंगी। इससे ट्रेनों की रफ्तार प्रभावित नहीं होगी और उनकी टाइमिंग भी सुधरेगी।

तीन किमी का लगता चक्कर

रेलवे ऑफिसर ने बताया कि राजधानी, दुरंतो, गरीब रथ जैसी वीआईपी ट्रेनों को गोविंदपुरी से न्यू कानपुर स्टेशन होते हुए चंदारी पास कराने की प्लानिंग तैयार की जा रही है। जिससे कानपुर सेंट्रल स्टेशन का लोड कम होने के साथ ही तीन से चार किमी का चक्कर भी बचेगा। वर्तमान में यह ट्रेनें चंदारी से कैंट शांतिनगर होते हुए कानपुर स्टेशन होते हुए गोविंदपुरी जाती हैं। जिसमें तीन से पांच किमी की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ती है।

कोट

3 लाख से अधिक पैसेंजर्स का लोड

389 ट्रेनों का डेली स्टेशन पर लोड

60 से अधिक गुड्स ट्रेनों का लोड

5 किमी का अतिरिक्त चक्कर बचेगा

20 लाख से अधिक कानपुराइट्स को मिलेगी रिलीफ

कोट

कानपुर में जूही यार्ड में न्यू स्टेशन बनाने का प्रस्ताव काफी पहले रेलवे आफिसर्स ने बनाया था। जोकि बीते दिनों इलाहाबाद में हुई बैठक में रीजन अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने पास कर दिया है। जल्द ही इस प्रोजेक्ट में काम शुरु कर दिया जाएगा।

अजीत कुमार सिंह, सीपीआरओ, एनसीआर

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner