- 22 जुलाई से होगा शहर में वाहनों का रूट डायवर्जन

- कांवडि़यों की सुरक्षा के लिए पुलिस ने बनाया प्लान

-----------

15 सौ पुलिस कर्मियों की लगाई जाएगी ड्यूटी

4- एसपी संभालेंगे सुरक्षा की व्यवस्था

8 - सीओ करेंगे कांवड़ यात्रा के रूट पर गश्त

4- कंपनी पीएसी लगेगी

2- कंपनी आरपीएफ होगी तैनात

350- होमगार्ड के जवानों की ड्यूटी

20- प्वाइंट कांवड़ यात्रा के रूट पर चेकिंग के लिए बनाए

2- ड्रोन कैमरे से होगी मेले की निगरानी

120- महिला पुलिस कमियों की रहेगी ड्यूटी

----------------

बरेली : सावन का महीना तीन दिन बाद यानि 17 जुलाई से शुरू हो रहा है. सावन के हर सोमवार को गंगा घाटों से जल लेकर शहर के शिवालयों में बड़ी संख्या में कांवडि़या भी पहुंचते हैं. कांवड़ यात्रा के दौरान सुरक्षा के लिए पुलिस ने पूरी तैयारी कर ली है. कांवड़ यात्रा के रूट के साथ ही मंदिरों में भी पुलिस के साथ पीएसी और आरएएफ तैनात रहेगी. इतना ही नहीं कांवड़ यात्रा में कोई असमाजिक तत्व खलल न डाल सके इसके ड्रोन कैमरों से निगरानी भी की जाएगी. इसके साथ ही कांवड़ यात्रा के दौरान हादसों की संभावना को देखते हुए वाहनों के रूट डायवर्जन का प्लान भी पुलिस ने तैयार कर लिया है.

यह है पुलिस का सुरक्षा प्लान

- कांवडि़यों के रास्ते पर लगाई जाएगी पुलिस पिकेट

- कांवडि़यों के लिए भंडारे का शिविर लगाने वालों का होगा सत्यापन

- सोशल मीडिया पर रखी जाएगी नजर

-कांवडि़यों को उत्तेजक नारे लगाने से रोका जाएगा.

-कांवडि़यों के रास्ते में पड़ने वाली मांस की दुकानें, शराब की दुकानें, मांसाहारी होटल, भांग के ठेके आदि बंद कराए जाएंगे.

-शहर के प्रमुख रास्तों में सीसीटीवी लगाए जाएंगे

-कांवड़ में कोई नई परंपरा नहीं होने दी जाएगी.

- संवेदनशील स्थानों पर पुलिस की सुरक्षा बढ़ाई जाएगी.

-मंदिरों में भी रहेगी पुलिस की ड्यूटी

कई बार हो चुका विवाद

बरेली में वर्ष 2010 से हर साल कांवड़ यात्रा को लेकर छिटपुट घटनाएं होती रही हैं. पिछले साल बिथरी चैनपुर के खजुरिया ब्रह्मानान गांव से कांवड़ यात्रा निकालने को लेकर दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए थे. विवाद को देखते हुए गांव में सावन के पूरे महीने पुलिस और पीएसी तैनात रही थी.

12 अगस्त सबसे संवेदनशील

पुलिस सावन के दौरान 12 अगस्त का दिन सबसे ज्यादा संवेदनशील मान रही है. वजह यह है कि 12 अगस्त को सावन का आखिरी सोमवार है और इसी दिन ईद का त्योहार भी है. इसके चलते पुलिस की टेंशन बढ़ गई है. ईद पर कुर्बानी और कांवड़ यात्रा को एक साथ शांतिपूर्ण संपन्न कराना पुलिस के लिए बड़ा चैलेंज है.

अतिसंवेदनशील है बरेली

खुफिया विभाग ने भी सावन माह में खुराफातियों द्वारा माहौल खराब करने का प्रयास करने की संभावना जताई है. वहीं पिछले सालों में कांवड़ यात्रा के रूट को लेकर हुए विवादों को देखते हुए बरेली को अतिसंवेदनशील क्षेत्र में रखा हुआ है.

शरारती बिगाड़ सकते हैं माहौल

ताजुश्शरिया के उर्स के दौरान कई दिन तनातनी का माहौल रहने के बाद खुफिया एजेंसियों का ताजा इनपुट है कि शरारती तत्व कांवड़ मेले में हंगामा करके शहर के माहौल को खराब करने की कोशिश कर सकते हैं.

-------------------

तीन दिन रहेगा रूट डायवर्जन

सावन में सोमवार के दिन कांवडि़या जलाभिषेक के लिए आते हैं. इसके चलते सावन के महीने में फ्र्राइडे रात से मंडे रात तक शहर में भारी वाहनों की नो इंट्री रहेगी. वहीं कांवड़ यात्रा के रूट पर भी वाहनों की नो इंट्री रहेगी.

ऐसे होगा रूट डायवर्जन

-लखनऊ से बरेली होकर दिल्ली जाने वाले वाहनों को शाहजहांपुर से कांठ, जलालाबाद, कोलाघाट, मिर्जापुर कलाल, उसावां, म्यांउ, बदायूं बिसौली, सहसवान, गुन्नौर - नरोरा, बुलंदशहर होते हुए दिल्ली की तरफ निकाला जाएगा.

-बरेली से रामपुर, मुरादाबाद जाने वाले वाहन बड़ा बाईपास होते हुए जा सकेंगे.

- नैनीताल और पीलीभीत से लखनऊ की ओर जाने वाला भारी वाहन बड़े बाइपास इन्वर्टिस तिराहा, फरीदपुर बाइपास होते हुए शाहजहांपुर जा सकेंगे.

-बरेली से आगरा की तरफ जाने वाले वाहन रामगंगा पुल पर प्रतिबंधित रहेंगे.

- सैटेलाइट ट्रांसपोर्ट नगर से आगरा की तरफ जाने वाले भारी वाहन फरीदपुर, फतेहगंज पूर्वी, दातागंज से बदायूं होकर आयशा परसाखेड़ा के रास्ते निकाले जाएंगे.

- मीरगंज से आने वाले वाहन नेशनल हाइवे से रामपुर, बरेली से बड़ा बाईपास, फरीदपुर बाईपास होते हुए बदायूं-आगरा रोड पर जा सकेंगे.

- दिल्ली नरौरा से चंदौसी, बिलारी, शाहबाद, रामपुर होते हुए बड़ा बाईपास से फरीदपुर होते हुए जा सकेंगे.

-परसाखेड़ा इंडिस्ट्रियल क्षेत्र का भारी वाहन बड़ा बाईपास से और श्यामगंज के बड़े वाहन सैटेलाइट से बड़ा बाईपास होते हुए जाएंगे.

रोडवेज बसों का भी बदलेगा रूट

- रोडवेज बस और छोटे वाहनों का रूट डायवर्जन सावन में प्रत्येक रविवार का सुबह छह बजे से रात नौ बजे तक रहेगा.

- पुराना बस अड्डे से रोडवेज बसें अयूब खां चौराहा, चौकी चौराहा, मालियों की पुलिया, सैटेलाइट होकर आ सकेगी.

- दिल्ली की तरफ जाने वाली रोडवेज बस सैटेलाइट से नरियावल, टीपी नगर, इंवर्टिस तिराहा, बड़ा बाइपास होकर जाएंगी.

-लखनऊ की तरफ आने वाली बसें सैटेलाइट, टीपी नगर, फरीदपुर होते हुए जाएंगी. बरेली से आगरा की तरफ जाने वाली बसें सैटेलाइट से फरीदपुर, फतेहगंज पूर्वी, दातांगज, बदायूं होते हुए जा सकेंगी.

-बरेली से आगरा की तरफ से जाने वाले छोटे वाहन लाल फाटक, रामगंगा अखा गैनी, अलीगंज, आंवला से बदायूं होते हुए जा सकेंगे.

वर्जन

- कांवडि़यों की सुरक्षा को लेकर जिले में कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. आने वाली कांवडि़यों की भीड़ को देखते हुए आगामी 22 जुलाई से रूट डायवर्जन शुरू कर दिया जाएगा.

राजेश कुमार पांडे, डीआईजी बरेली जोन