नई दिल्ली (आईएएनएस)। करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तान ने एक और यू-टर्न लिया है। तीर्थयात्रियों को उद्घाटन वाले दिन से ही 20 डॉलर का शुल्क चुकाना होगा। पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुल्क माफी की घोषणा की थी।

प्रत्येक व्यक्ति को देना होगा 20 डॉलर

पाकिस्तान ने शनिवार को उद्घाटन के दिन करतारपुर कॉरिडोर का उपयोग करने वाले भारतीय तीर्थयात्रियों से प्रत्येक से 20 डॉलर शुल्क लेने का फैसला किया है, इसके बावजूद कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 1 नवंबर को शुल्क माफी की घोषणा की थी। सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान ने भारत को निर्णय की जानकारी दे दी है।

पहले कहा था नहीं लिया जाएगा शुल्क

उद्घाटन के दिन गलियारे का उपयोग करने वाले 550 तीर्थयात्रियों में से प्रत्येक से 20 डॉलर का शुल्क वसूलने का निर्णय पाकिस्तान के कई यू-टर्न में से एक है जो उसने करतारपुर कॉरिडोर का उपयोग करने के तौर-तरीकों के बारे में लिया है। 1 नवंबर को, इमरान खान ने कहा था कि करतारपुर से आने वाले भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं है, बस एक वैध आईडी कार्ड की जरूरत होगी, और यह कि करतारपुर गुरुद्वारे के लिए कॉरिडोर के उद्घाटन के दिन कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

Kartarpur Corridor: उद्घाटन से पहले 1,303 सिख तीर्थयात्री करतारपुर साहिब रवाना

जाने के लिए पासपोर्ट जरूरी

गुरुवार को, पाकिस्तान ने कहा कि पासपोर्ट होना जरूरी है। शुक्रवार को, यह बताया गया कि तीर्थयात्रियों को उद्घाटन के दिन प्रति व्यक्ति 20 डॉलर का शुल्क देना होगा। शनिवार को, कॉरिडोर का उपयोग करने वाले 550 तीर्थयात्रियों में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह और केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी और हरसिमरत कौर होंगे। शनिवार को 550 तीर्थयात्रियों से लिए जाने वाले शुल्क से पाकिस्तान को 11 हजार डॉलर की आमदनी होगी। भारत शुरुआत से ही तीर्थयात्रियों से किसी भी तरह का शुल्क लिए जाने के खिलाफ है। इस शुल्क का $ 20 शुल्क का विरोध कर रहा है, कई लोग इसे जज़िया कर कहते हैं।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk