कानपुर। Kharmas End Date and Vivah Muhurat 2020: मकर राशि में प्रवेश करते ही सूर्य भगवान दक्षिणायन से उत्तरायण होंगे। जिसके चलते उपासना और मौसम में तो खास बदलाव होगा ही इसके साथ ही खरमास का भी अंत हो जायेगा। जिसका अर्थ है कि अब तक रुके शुभ कार्य आरंभ हो जायेंगे। बीते वर्ष 16 दिसंबर से खरमास का आरंभ हुआ था जो सूर्य के उत्तरायण में आने से समाप्त हो जाएगा। इस अवधि में शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं।

खरमास में शुभ कार्य वर्जित

हिन्दू धर्म के अनुसार मलमास या खरमास को शुभ माह नहीं माना जाता है। पंडितो का कहना है कि खरमास में विवाह, भवन-निर्माण, नया व्यापार या व्यवसाय आदि शुभ कार्य करना वर्जित होता है। पंचांग के अनुसार सौर मास की समयावधि को खरमास कहा जाता है। माना जाता है कि इस मास में सूर्य देवता के रथ को घोड़े नहीं खींचते हैं। मकर संक्रांति में सूर्य के राशि बदलने पर इस मास का अंत होता है।

जनवरी मास में विवाह के शुभ मुहूर्त

द्रिक पंचांग के अनुसार 15 जनवरी से शुभ कार्य आरंभ हो जायेंगे। इस अवधि में विवाह की शुभ तिथियां इस प्रकार हैं। 15 तो अन पुछ दिन है यानि इस दिन बिना पंचांग विचार के विवाह आदि कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त 16, 17, 18 और 20 जनवरी। इसके बाद 29, 30, और 31 जनवरी।

Posted By: Molly Seth

Spiritual News inextlive from Spiritual News Desk