-सितंबर माह में लिए गए दो सैंपल जांच में मिले फेल

-खेसारी दाल की बिक्री पर लगी है रोक

बरेली- रोक के बावजूद बिक रही खेसारी दाल के सैंपल जांच में फेल हुए हैं .एफएसडीए की टीम ने सितंबर में खेसारी दाल बेचने वालों के खिलाफ छापेमारी कर सैंपल कलेक्ट किए थे. जांच में दो सैंपल फेल हुए हैं, जिनकी रिपोर्ट अनसेफ आयी है. अब एफएसडीए खेसारी दाल बेचने वाले दुकानदारों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी.

शासन के आदेश पर छापेमारी

सितंबर में शासन ने खेसारी दाल की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगाने के आदेश दिए थे. इस दाल का बेसन बनाकर बेचा जाता है जो जानलेवा है. शासन के आदेश पर बाद खाद्य विभाग ने व्यापारियों के साथ मीटिंग कर दाल न बेचने का आग्रह किया था. उसके बाद 14 व 15 सितंबर 2018 को एफएसडीए ने छापेमारी की थी. टीम ने 3 स्थानों पर छापा मारकर 292 किलो खेसारी दाल पकड़ी थी और सैंपल कलेक्ट कर जांच के लिए भेजे थे.

इनके सैंपल हुए फेल

14 सितंबर 2018 को एफएसडीए की टीम ने कालीबाड़ी स्थित पुष्करमल प्रतिष्ठान पर छापा मारकर मौके से 155 किलो खेसारी दाल पकड़ी थी. इसके बाद टीम ने बल्लिया भमोरा से वीकली मार्केट में रजत जायसवाल की आढ़त से करीब 12 किलो खेसारी दाल पकड़कर सीज की थी. इसी तरह से नवाबगंज स्थित रिछौला बाजार से 125 किलो खेसारी दाल पकड़ी गई थी. इसके अलावा 15 सितंबर को चौपुला चौराहा से महेंद्रपाल की शॉप से भी खेसारी दाल पकड़कर सैंपल लिए थे. पुष्करमल और महेंद्रपाल की शॉप से लिए गए सैंपल की रिपोर्ट अनसेफ आयी है.

सितंबर में लिए गए खेसारी दाल के दो सैंपल फेल हुए हैं. दोनों सैंपल अनसेफ आए हैं. अब आगे की कार्रवाई की जाएगी.

डीआर मिश्रा, डीओ एफएसडीए बरेली