-गंगा इंफ्रासिटी कंपनी के ठगी के मामले में दी धमकी, एफआईआर

BAREILLY: गंगा इंफ्रासिटी कंपनी का डायरेक्टर महाठग जेल में बंद है लेकिन ठगी को लेकर गुंडई के मामले अभी जारी हैं. अब इस मामले में हिस्ट्रीशीटर पाताराम व उसके साथियों पर एक शख्स के अपहरण और जान से मारने की धमकी का मामला सामने आया है. शख्स की पत्‍‌नी ने वेडनसडे कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई है. हिस्ट्रीशीटर पाताराम 11 सितंबर को स्टेशन रोड पर बार में मारपीट के मामले में जेल गया है.

तीन घंटे तक कार में घुमाया

पूनम, बड़ा डाकघर के पास सिविल लाइंस में रहती हैं. उसके पति धर्मवीर की पान शॉप है. उसके पति ने गंगा इंफ्रासिटी कंपनी में रुपए लगाए थे. धर्मवीर के साथी आशीष ने भी कंपनी में डेढ़ लाख रुपए लगाए थे. पूनम का आरोप है कि 9 सितंबर की रात साढ़े आठ बजे चनेहटा निवासी आशीष और अरविंद पटेल उसके घर आए और पति से रुपयों का तकादा किया. उसके पति ने कहा कि उसने सारा रुपए कंपनी में लगा दिया है, उसके पास नहीं है. इस पर दोनों ने झगड़ा किया और फोन कर हिस्ट्रीशीटर पाताराम व उसके साथियों को बुला लिया. सभी दो कार से पहुंचे और पति के साथ मारपीट की और पति को तमंचे के बल पर कार में डालकर ले गए. उसके बाद तीन घंटे कार में घुमाने के बाद स्टेशन रोड पर होटल के पास छोड़कर चले गए. उन्होंने धमकी दी कि तीन दिन में रुपए नहीं दिए तो जान से मार देंगे. उसके बाद से उसे लगातार धमकियां मिल रही हैं.