patna@inext.co.in
PATNA : देश में सुपर 30 की पहचान किसी से छिपी नहीं है लेकिन सुपर 30 आप और हमसे बहुत कुछ छिपाता है। सुपर 30 का रास्ता कहां से जाता है और वहां से कौन-कौन निकलता है यह भी पता नहीं चल पाता। सुपर 30 की साइट से लेकर सेंटर तक कहीं भी आनंद सुपर 30 स्टूडेंट्स का जिक्र नहीं करते हैं। कई बार, कई मंच पर सवाल किए गए लेकिन आनंद ने कभी भी यह राज नहीं खोला कि इस साल आईआईटी क्वालिफाई करने वाले वे 30 स्टूडेंट्स कौन हैं। दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने जब आईआईटी में सेलेक्ट आनंद के सुपर 30 की तलाश की तो फिर एक बड़ा खेल सामने आया।

वेबसाइट पर भी नहीं है डिटेल
सुपर 30 की वेबसाइट पर कभी कोई रिजल्ट अपलोड नहीं किया जाता है। इस वर्ष का भी रिजल्ट अपलोड नहीं है। आनंद कुमार के फेसबुक पेज और यू टयूब पर सेलिब्रेशन की फोटो और वीडियो शेयर होती है, लेकिन इसमें भी जितने स्टूडेंट्स के सफल होने का दावा होता है उतने वीडियो में नहीं होते हैं। इसके पीछे तर्क स्टूडेंट्स के बाहर होने का होता है लेकिन सवाल यह है कि जिसका भविष्य बनाने के लिए आनंद कुमार ने इतना बड़ा योगदान दिया उनके लिए स्टूडेंट्स सेलिब्रेशन से जरूरी काम में कहां फंस गए? यह एक साल नहीं बल्कि हर साल होता है।

यह है आनंद का दावा
कौन बनेगा करोड़पति का स्टेज। एक तरफ अमिताभ बच्चन और दूसरी तरफ सुपर 30 के आनंद कुमार। अमिताभ बच्चन पूछते हैं कि आखिर आप कैसे 30 बच्चों को चुनते हैं। उस स्टेज पर जो आनंद ने जवाब दिया आज आपको उसकी जमीनी हकीकत बताते हैं।

आनंद का दावा
- हम 30 गरीब बच्चों को पढ़ाते हैं।
- जिन 30 बच्चों को पढ़ाया जाता है वे आईआईटी क्वालिफाई करते हैं।
- हम कोई फीस नहीं लेते हैं।
- मेरा भाई पहले उन सलेक्ट किए गए 30 बच्चों का रिकॉर्ड चेक करता है। गरीब होने पर ही उन्हें पढ़ाया जाता है।
 
जमीनी हकीकत
- सुपर 30 के नाम पर रामानुजम क्लासेस में हजारों बच्चे पढ़ते हैं।
- किन 30 सुपर स्टूडेंट्स का सलेक्शन किया है, यह किसी को नहीं पता होता।
- रामानुजम में पढऩे बच्चों से हर साल करोड़ो रुपए फीस वसूली जाती है
- रामानुजम में गरीबी कहीं नहीं देखी जाती। सुपर 30 के स्टूडेंट्स की डिटेल मिले तो पता चले कि वे गरीब है या अमीर।

आखिर सवालों से क्यों बच रहे हैं सुपर-30 के आनंद कुमार
सुपर 30 को लेकर कई सवाल हैं जिसके जवाब के लिए आनंद कुमार से लगातार संपर्क करने की कोशिश की गई। व्हाटसएप और टेक्स्ट मैसेज के जरिए जवाब मांगा गया लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला। आनंद जी ने व्हाट्सएप मैसेज को सीन भी किया लेकिन कोई जवाब नहीं दिया। कॉल कर उनसे संपर्क करने की कोशिश की गई तो पहली बार कॉल अटेंड हुआ लेकिन उन्होंने व्यस्तता बताकर बाद में बात करने को कहा, लेकिन बाद में उन्होंने फोन अटेंड करना भी बंद कर दिया।
 
सुपर  30 से 4  सवाल
17 जुलाई 2018 को  सुबह 11।23 बजे से आज तक जवाब का है इंतजार
- आपका सुपर 30 सेंटर कहां हैं। क्या इसका कहीं साइन बोर्ड लगा है?
- इस बार सेलेक्ट हुए 26 स्टूडेट्स का नाम-पता?
- अगले रिजल्ट में सफल होने वाले 30 स्टूडेंटस की डिटेल जो सुपर 30 में पढ़ रहे हैं और आईआईटी में सेलेक्ट होंगे?
- रामानुजम कोचिंग क्या है इसका आपसे क्या संबंध है?
 
स्टूडेंट पढ़ता है कोटा में और फोटो आती है आनंद के साथ
- रेड टी-शर्ट में शेखर हैं। इसने कोटा से पढ़ाई की। आनंद ने इसे अपना स्टूडेंट बताया था।
- ग्रीन टी-शर्ट में आदित्य है। इसने भी कोटा से पढ़ाई की। जेईई रिजल्ट के बाद आनंद ने इसे अपना स्टूडेंट बताया।
आनंद कुमार ने इस बार सुपर 30 के रिजल्ट में 26 स्टूडेंट्स को सफल बताया है। रिजल्ट के बाद सेलिब्रेशन में आनंद कुमार के साथ पीछे बैठे इन दोनों स्टूडेंटस पर गौर करें। ग्रीन टी-शर्ट वाला स्टूडेंट आदित्य आनंद है और रेड टी-शर्ट में शेखर सत्याकर है। आनंद ने इसे सुपर 30 में 26 का हिस्सा बताया। जबकि दैनिक जागरण आई नेक्स्ट के बाद मौजूद कागजात में आदित्य आनंद और शेखर सत्याकर दोनों की प्रतिदिन अटेंडेंटस लगती रही है। दोनों कोटा में रेजोनेंस में रेगुलर पढ़ाई की है। डीेजे आई नेक्स्ट के हाथ लगे कागजात में यह आशंका है कि दोनों स्टूडेंटस कोटा में पढ़ाई किए और सेलिब्रेशन में उन्हें सुपर 30 में शामिल कर लिया गया। आदित्य और शेखर का रेजोनेंस कोटा का हर टेस्ट का रिपोर्ट कार्ड और जेईई मेंस का फाइनल रिजल्ट जो आफिसियल वेबसाइट से मिला है वह भी मौजूद है।

Super 30 exposed : आनंद का 'सुपर फ्रॉड'

Super 30 exposed : जानें सुपर 30 का सच

Super 30 exposed : पांच साल में आनंद के परिवार ने बनाई 'सुपर' प्रॉपर्टी

National News inextlive from India News Desk