प्रयागराज (पीटीआई)। कुंभ में छठे और अंतिम स्नान पर्व महाशिवरात्रि पर आज संगम में डुबकी लगाने के लिए कल से ही श्रद्धालु प्रयागराज में जुटने लगे थे। कड़ी सुरक्षा के बीच आज तड़के से ही बड़ी संख्या में श्रद्धालु संगम में स्नान करने लगेंगे। सिविल लाइंस स्थित राम नाम बैंक के अध्यक्ष गुंजन वार्ष्णेय ने पीटीआर्इ को बताया कि महाशिवरात्रि कुंभ के समापन आैर कल्पवासियों के अंतिम पवित्र स्नान का प्रतीक होता है। एेसे में आज संगम में बीते स्नान पर्वों की अपेक्षा आैर अधिक भीड़ होगी।
प्रयागराज कुंभ 2019 : महाशिवरात्रि पर अंतिम स्नान पर्व में बड़ी संख्या में श्रद्धालु लगाएंगे संगम में डुबकी
यह शुभ संयोग लंबे समय बाद पड़ रहा
वहीं महाशिवरात्रि के महत्व के बारे में विस्तार से बताते हुए गृह नक्षत्रम के आशुतोष वार्ष्णेय कहते हैं कि इसका सीधा संबंध भगवान शिव से है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान शिव का विवाह हुआ था। इस दिन का स्वर्ग में भी इंतजार किया जाता है। महाशिवरात्रि पर 'शिवलिंग' का रुद्राभिषेक भी किया जाता है। खास बात तो यह है कि इस बार महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ रही है। सोमवार को महाशिवरात्रि का पड़ना शुभ होता है आैर यह शुभ संयोग लंबे समय बाद पड़ रहा है।

 


कुंभ में कुल छह स्नान तिथियां पड़ी

वहीं दुनिया के बड़े धार्मिक समागमों में शामिल कुंभ मेला इस साल 15 जनवरी से मकर सक्रांति के पहले स्नान से शुरू हुआ था आैर आज 4 मार्च को महाशिवरात्रि के स्नान पर्व से यह समाप्त होगा। कुंभ में कुल छह स्नान तिथियां थीं। इसमें शाही स्नान मकर संक्रांति (15 जनवरी), मौनी अमावस्या (4 फरवरी) और बसंत पंचमी (10 फरवरी) पर आयोजित हुए थे। इसके अलावा स्नान पर्वों में पौष पूर्णिमा (21 जनवरी) और माघी पूर्णिमा (19 फरवरी) आैर महाशिवरात्रि (4 मार्च) शामिल हैं।

ट्रैफिक व्यवस्था टाइट, श्रद्धालु करेंगे लेफ्ट राइट

कुंभ मेला 2019: प्रयागराज में कार पार्किंग की पूरी जानकारी, मेला स्थल के नजदीक यहां खड़ी कर सकते हैं गाड़ी

National News inextlive from India News Desk