नई दिल्ली (आईएएनएस) वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन और भारत के बीच बढ़ते तनाव ने दोनों देशों को हजारों की संख्या में सैनिकों की तैनाती बढ़ाने और अपने संबंधित क्षेत्रों में आगे के स्थानों पर संपत्ति बढ़ाने के लिए मजबूर कर दिया है। चीनी और भारतीय दोनों सेनाएँ उन स्थानों पर हाई अलर्ट पर हैं, जहां तनाव और झड़पें हुई थीं। भारतीय सेना ने स्पष्ट किया है कि वे अपने क्षेत्र में किसी भी प्रकार के चीनी गतिविधि की अनुमति नहीं देंगे और गश्ती को अधिक मजबूत करेंगे। वहीं, चीनी सेना आए दिन भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ कर भारत की सेना के साथ संघर्ष कर रही है। मामला बढ़ गया है क्योंकि इसे स्थानीय स्तर पर सेनाओं द्वारा हल नहीं किया जा सकता है और राजनयिक रूप से बातचीत शुरू हो गई है।

एक हफ्ते के भीतर सुलझ जाएगा मामला

लद्दाख क्षेत्र में एलएसी के पास रहने वाले एक निजी सूत्र ने कहा, 'एक हफ्ते के भीतर, इस मामले को सुलझा लिया जाएगा। कूटनीतिक बातचीत जारी है ... भारतीय सेना ने अपने क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सेना तैनात कर दी है और चीन ने भी अपने क्षेत्र में तैनात कर दिया है.' सूत्रों ने कहा कि चीन गर्मियों के दौरान हमला शुरू करता है और यह हर साल की घटना है। भारतीय सैनिकों ने चीन की सेना को पीछे धकेल दिया। चीन ने पैंगोंग त्सो (झील) में सशस्त्र कर्मियों के साथ नावें भी बढ़ाई हैं। सूत्रों ने कहा कि उन्होंने एलएसी के पार हजारों लोगों को तैनात किया है और वे उन्हें टेंटों में डाल रहे हैं। भारतीय सेना के प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने ने शुक्रवार को लद्दाख में 14 कोर के मुख्यालय लेह का दौरा किया और चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बलों की सुरक्षा तैनाती की समीक्षा की। उन्होंने उत्तरी कमान (नेकां) के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वाई.के. जोशी और 14 कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और अन्य अधिकारियों ने एलएसी के साथ आगे के स्थानों पर जमीनी स्थिति को जाना।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner