-वैकल्पिक रास्ते की प्रशासन को थी तलाश

-एडीएम सिटी के साथ हुई सेतु निगम के डीपीएम की हुई मीटिंग

2017 में शुरू हुआ आरओबी का निर्माण

955.42 मीटर लंबाई का बनाया जा रहा है आरओबी

55 परसेंट काम सेतु निगम पूरा कर चुका है

8249.150 लाख रुपए है आरओबी का बजट

30 मीटर दूर लाल फाटक से डायवर्जन के लिए बनेगी सड़क

1 महीने में रेलवे शुरू कर देगा निर्माण कार्य

बरेली. बरेली-बदायूं रोड पर बनाए जा रहे आरओबी की एक और मुश्किल का हल प्रशासन ने तलाश लिया है. लाल फाटक के पास से ही डायवर्जन के लिए सड़क बनाकर लाल फाटक से गुजरने वाले वाहनों को डायवर्ट किया जाएगा. थसर्ड को एडीएम सिटी ने सेतु निगम के अफसरों के साथ इसे लेकर मीटिंग की. माना जा रहा है कि डायवर्जन के लिए सड़क बनने के बाद लाल फाटक रेलवे क्रॉसिंग को बंद करके रेलवे अपने हिस्से में आरओबी निर्माण का काम शुरू कर देगा.

अफसरों ने किया सर्वे

लाल फाटक रेलवे क्रॉसिंग के ऊपर पुल का निर्माण करने से पहले क्रॉसिंग को बंद करना था, लेकिन इसके लिए वैकल्पिक रास्ते की तलाश थी. कई दिनों की मशक्कत के बाद सेतु निगम के अफसरों ने सर्वे के बाद लाल फाटक से 30 मीटर दूर जमीन तलाश ली. यहां 8 मीटर चौड़ी और 250 मीटर लंबी सड़क बनाई जाएगी.

रेलवे से भी मिली सहमति

प्रशासन के इस प्रस्ताव पर रेलवे के अधिकारियों ने भी सहमति दे दी है. इसके बाद प्रशासन ने लाल फाटक के क्रासिंग की जगह दीवार खड़ी कराने का फैसला किया है. यहां लगे रेलवे फाटक को उखाड़कर डायवर्जन के लिए बनाई जा रही सड़क के रेलवे क्रॉसिंग पर लगाया जाएगा.

एक माह के अंदर शुरू होगा काम

ट्रैफिक डायवर्जन के लिए सड़क का निर्माण करीब 15 दिन में पूरा कर लिया जाएगा. इसके बाद रेलवे अपने हिस्से का काम शुरू करेगा. इसके लिए रेलवे ने निर्माण सामग्री आदि साइट पर पहुंचाने का पहले ही शुरू कर दिया है. माना जा रहा है कि रेलवे एक महीने के अंदर काम शुरू कर देगा.

फंस सकता है बजट का पेंच

विभागीय अफसरों के मुताबिक सड़क निर्माण के लिए जमीन तो मिल गई है, लेकिन अभी भी इसमें पेंस फंस सकता है, क्योंकि प्रशासन ने सड़क बनाने की जिम्मेदारी सेतु निगम को दी गई है, लेकिन सेतु निगम के पास इसके लिए बजट ही नहीं है.

सेना की जमीन मिलने का इंतजार

इस आरओबी का निर्माण सेतु निगम और रेलवे दोनों को करना है. जनवरी 2017 में सेतु निगम ने अपने हिस्से में काम शुरू कर दिया और अब तक करीब 55 परसेंट काम भी पूरा कर लिया है. लेकिन सेना की जमीन न मिलने के चलते सेतु निगम के काम पर बे्रक लगता नजर आ रहा है. सेना की करीब 6500 स्क्वायर मीटर जमीन भी आरओबी के दायरे में आ रही है, पिछले दिनों इसके लिए डिफेंस मिनिस्ट्री ने शासन को लेटर भी लिखा था, लेकिन अभी तक इसे लेकर सहमति नहीं बन सकी है.

वर्जन.

लाल फाटक के बगल प्रशासन की जमीन है. जिसे लेकर मीटिंग हुई है. जिसमें तय हुआ कि आठ मीटर चौड़ी और 250 मीटर लंबी सड़की बनाकर बरेली-बदायूं मार्ग से लिंक कर दी जाएगी. यह काम एक माह के अंदर कर लिया जाएगा. -वीके सेन, उप परियोजना प्रबंधक, सेतु निगम इकाई-2