राजद के प्रमुख लालू प्रसाद रविवार को पूर्व सांसद जगदानंद के साथ दिल्ली से लौटे. बिहार पहुंचते ही वे मुजफ्फरपुर के लिए प्रस्थान कर गए, जहां अज्ञात बीमारी से बच्चों की हो रही मृत्यु का जायजा लेंगे.

17 तारीख को राजद विधायकों की बैठक में होगा फैसला

लालू ने सुत्रों से कहा कि हम पार्टी के अपने साथियों से राय लेकर ही तय करेंगे. मैं दिल्ली से कोई निर्णय कर नहीं आया हूं बल्कि 17 तारीख को राजद विधायकों की होने वाली बैठक के बाद ही कोई निर्णय लूंगा.

नीताश पर तंज कसा
लालू ने कहा कि जदयू के घर के भीतर इस समय आग लगी हुई है और उन्हें आग बुझाने के लिए दमकल की जरूरत है. सामाजिक न्याय व धर्मनिरपेक्षता की लड़ाई तो हम शुरू से लड़ रहे हैं और इसे किसी भी हालत में अंतिम मुकाम तक पहुंचाएंगे.

सांप्रदायिक शक्तियों से लड़ाई जारी रहेगी
सांप्रदायिक शक्तियों से हमारी लड़ाई हमेशा चल रहा था और ये जारी रहेगा. हमने तो सांप्रदायिक ताकतों को रोकने के लिए मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की सरकार का विश्वासमत में बिना मांगे समर्थन किया था पर मेरे इस मूव को गलत तरीके से लोगों द्वारा देखा गया.

राजद के विधायक दलों की बैठक राबड़ी देवी के आवास पर शाम 6.30 बजे होगी.

अज्ञात बीमारी से बच्चों की मौत गंभीर मसला
लालू ने कहा कि इस  समय मेरी प्राथमिकता राज्यसभा चुनाव नहीं बल्कि अज्ञात बीमारी से बच्चों की हो रही मृत्यु है. मैंने पहले ही कहा था कि बीमारी का पता नहीं चल रहा है तो सरकार बच्चों को इलाज के लिए तुरंत दिल्ली भेजे किन्तु मेरे बात को नजरअंदाज कर दिया गया. अंदाजतन बच्चों का इलाज हो रहा है जिसमें बच्चे मर रहे हैं.

मोदी सरकार को कोसा
मुजफ्फरपुर पहुंचकर देखेंगे कि अच्छे दिन का नारा देने वाली नरेन्द्र मोदी की सरकार क्या कर रही है. अच्छे दिन तो यही आए कि बच्चे दम तोड़ रहे हैं. राज्य में स्वास्थ्य विभाग भी वर्षो तक भाजपा के जिम्मे रहा किन्तु इसके मंत्रियों ने कोई व्यवस्था नहीं की. लालू के साथ मुजफ्फरपुर गए जगदानंद ने कहा कि भाजपा तो इतना बोलती है पर इस मेटर पर क्यों चुप है.

National News inextlive from India News Desk