- मुख्तार के पास नौ और अतीक के पास चार लाइसेंसी शस्त्र

- डीजीपी ने कई अपराधियों के शस्त्रों का ब्योरा जुटाने का दिया निर्देश

लखनऊ (ब्यूरो)। अपने इर्द-गिर्द लाइसेंसी असलहों का जमघट लेकर चलने वाले बाहुबलियों व कुख्यात अपराधियों पर यूपी पुलिस ने नजर टेढ़ी कर ली है । डीजीपी ओपी सिंह ने उन्हें हासिल लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा जुटाने का निर्देश दिया है । डीजीपी के मुताबिक शासन स्तर पर पैरवी कर अपराधियों के शस्त्र लाइसेंस निरस्त कराए जाएंगे ।

मुख्तार और अतीक की मुश्किल बढऩा तय

यूपी पुलिस की इस कवायद से बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी व पूर्व सांसद अतीक अहमद की मुश्किलें और बढऩे वाली हैं । इन दिनों एक केस में पंजाब की जेल में निरुद्ध मुख्तार अंसारी समेत कई अन्य के लाइसेंसी शस्त्रों का ब्योरा निकलवाया गया है । इस सूची में सबसे ऊपर मुख्तार अंसारी ही हैं । डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि मुख्तार के पास नौ लाइसेंसी शस्त्र हैं । पूर्व सांसद अतीक के पास चार लाइसेंसी शस्त्र हैं । बताया गया कि कुख्यात सुंदर भाटी, अमित भाटी, सुशील मूंछ समेत नौ अपराधियों के पास एक से अधिक लाइसेंसी शस्त्र हैं । डीजीपी मुख्यालय स्तर से अब इनके लाइसेंसी शस्त्र लाइसेंस कैंसिल कराने की कसरत होगी ।

सीबीआई कर रही जांच

पूर्व सांसद अतीक अहमद इन दिनों अहमदाबाद की जेल में बंद हैं । लखनऊ के कारोबारी को अगवा कर देवरिया जेल में पीटने व जबरन संपत्ति के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कराने के बहुचर्चित मामले में अतीक अहमद पर सीबीआई ने शिकंजा कसा है । अपराधियों को हासिल लाइसेंसी शस्त्रों के दुरुपयोग की बातें भी सामने आई हैं । पुलिस इसकी भी गोपनीय जांच कर रही है ।

lucknow@inext.co.in

National News inextlive from India News Desk