इनक्यूबेशन सेंटर में 13 कंपनियों की एंट्री

2015-09-08T07:01:25Z

-दस कंपनियों ने आईआईटी कैंपस से निकल कर बाहर पैर जमाए

-अगर सेंटर के पास फंड हुआ तो तीन महीने बाद कंपनी को मिलेगा लोन

KANPUR:

आईआईटी के इनक्यूबेशन सेंटर में सफलता की बुलंदियों को छूने के लिए 13 नई कंपनियों ने एंट्री की है। ये कंपनियां अपने न्यू आइडियॉज और इनोवेशन के साथ आईआईटी में ऑफिस खोलकर काम शुरू करेंगी। इससे पहले इनक्यूबेशन सेंटर में काम कर रही 10 कंपनियां बाहर स्टेबलिश हो गई हैं। अच्छी बात ये है कि आईआईटियंस की यह कंपनियां देश ही बल्कि विदेश में भी अपने कारोबार को बढ़ा रही हैं।

आइडिया फेल तो नहीं मिलेगा लोन

आईआईटी में सिडबी का इनक्यूबेशन सेंटर करीब दस साल पहले स्टेब्लिश किया गया था। जिसके अन्तर्गत कंपनी को कम ब्याज पर लोन भी उपलब्ध कराया जाता है। कैंपस में उन्हीं कंपनी को स्टेब्लिश होने का अवसर दिया जाता है, जिनके इनोवेटिव आईडियॉज में दम होता है और उसके बेहतर रिजल्ट मिलने की पूरी संभावना होती है। इसके लिए कंपनी खोलने वाले टेक्नोक्रेट्स का इंटरव्यू इनक्यूबेशन सेंटर में लिया जाता है। इस दौरान उनकी स्किल और टेक्नोलॉजी नॉलेज को परखा जाता है। अगर वो इंटरव्यू मे फेल हो जाता है तो कैंपस में कंपनी खोलने के लिए ग्रीन सिग्नल नहीं मिलता है।

इन कंपनियों ने दी दस्तक

-सूर्या इटेक कंपनी: रूरल एरिया के सोलर ड्रिंकिंग वाटर सिस्टम को डेवलप कर रही है

-केनोपी टेक कंपनी: बेसिक इलेक्ट्रोकेमेस्ट्री किट्स एण्ड डिवाइस की फील्ड में काम कर रही है

-एलटेक- डिजाइन और मैन्यूफैक्चरिंग पर फोकस करेगी

-पी सोल कंपनी- बिजनेस इंटैलीजेंस एण्ड बिग डाटा पर काम कर रही है

-आर रिजल्ट कंपनी: आटोमेशन टूल्स फार डिजिटल सर्विसेज की फील्ड में काम करी है

-क्लाउड सेल टेक कंपनी: क्लाउड मैनेजमेंट पर फोकस करेगी

-अनिकेतना इकोसिस्टम्स: सेफ एण्ड इकोफ्रैंड्ली एजुकेशनल खिलौने और गेम्स पर काम कर रही है

-जेनप्रो: मेडिकल की फील्ड में किट्स बनाएगी

बाहर पैर जमाने वाली कुछ कंपनियां

-आईटी सेक्टर में काम करने वाली आर्नियम कंपनी: नोएडा

-डिजाइन की फील्ड में काम करने वाली थिंकिंग थ्रेड: सूरत व मुंबई

आईआईटी कैंपस में तीन महीने के अंदर 13 कंपनियां सेंटर में एंट्री कर रही हैं। इयर 2014-15 के सेशन में सेंटर से करीब 10 कंपनियां सफलता हासिल करने के बाद देश के अन्य हिस्सों में अपना बिजनेस करने गई हैं। अभी तक सेंटर से करीब 50 कंपनियां बाहर जा चुकी हैं।

-प्रो। समीर खांडेकर, एसोसिएट डीन इनोवेशन एण्ड इनक्यूबेशन सेंटर आईआईटी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.