पटवाटोली के 13 स्टूडेंट्स ने जेईई एडवांस में मारी बाजी

2019-06-15T10:42:06Z

मानपुर की उद्योगनगरी पटवाटोली के छात्रों ने इस बार भी जेईई एडवांस की परीक्षा में सफलता का सिलसिला बरकरार रखा है

patna@inext.co.in
GAYA/PATNA: मानपुर की उद्योगनगरी पटवाटोली के छात्रों ने इस बार भी जेईई एडवांस की परीक्षा में सफलता का सिलसिला बरकरार रखा है. यहां से हर साल दर्जन भर बच्चे आईआईटी और एनआईटी में नामांकन के लिए चयनित होते हैं. पावरलूम की खटखट के बीच आईआईटी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों का जुनून देखते ही बनता है. इस साल भी यहां से 13 छात्रों ने सफलता प्राप्त की है.

इन छात्रों को मिली सफलता
जिसमें पवन प्रसाद के पुत्र आयुष राज पटवा ने सामान्य श्रेणी में 6035 और ओबीसी में 999 रैंक प्राप्त किया है. मेघनाथ प्रसाद पटवा के पुत्र राहुल नाथ (सामान्य 9165, ओबीसी 1688), रमेश कुमार के पुत्र आदित्या प्रसाद (सामान्य 17180, ओबीसी 3729), इंद्रदेव प्रसाद के पुत्र महेश प्रसाद (सामान्य 22244, ओबीसी 5159), सरोज कुमार पटवा के पुत्र सौरभ कुमार (ओबीसी 6840), ढालचन प्रसाद पटवा की पुत्री निष्ठा कुमारी (सामान्य 11309, ओबीसी 2209), अर्जुन प्रसाद की पुत्री नैना कुमारी (ओबीसी 6158), रुस्तम कुमार पटवा के पुत्र शिवम कुमार (सामान्य 13009, ओबीसी 2643), रेखा राम के पुत्र आशुतोष कौशल (पीडब्ल्यूपी 16, ओबीसी 7000), मेघनाथ कुमार पटवा के पुत्र रीतिक कुमार (सामान्य 18000, ओबीसी 4000), युवराज प्रसाद पटवा के पुत्र दीपक कुमार (ओबीसी 6068), धनेश्वर प्रसाद के पुत्र अमित कुमार (ओबीसी 5620), अशोक कुमार के पुत्र कैलाश प्रसाद (ओबीसी 1095) ने परीक्षा में सफलता प्राप्त की है.

इस बार दो छात्राएं भी सफल
यहां पिछले एक दशक से आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में बड़ी तादाद में छात्र सफल हो रहे हैं. इस बार दो छात्राएं भी हैं. ये बच्चे यहीं रहकर तैयारी करते हैं. एक तरफ पावरलूम की खटखट तो दूसरी ओर पढ़ाई. समाज के लोगों ने बच्चों के लिए एक भवन बना रखा है, जहां वे बैठकर पढ़ाई करते हैं. जो छात्र आईआईटी-एनआईटीमें पढ़ रहे हैं या पासआउट होने के बाद नौकरी कर रहे हैं, वे इनका मार्गदर्शन करते रहते हैं. वे इनके साथ ऑनलाइन रहते हैं और तैयारी के संबंध में दिशा-निर्देश देते रहते हैं. पटवाटोली कभी सिर्फ वस्त्र निर्माण के लिए जाना जाता था, जहां बुनकर कपड़े तैयार करते हैं. लेकिन अब राष्ट्रीय स्तर पर इसकी पहचान आइआइटीयंस के लिए है, जहां के करीब डेढ़ सौ छात्र या तो अध्ययनरत हैं.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.