भट्टा परसौल 'बलात्कार' मामले में पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

2011-10-25T12:15:00Z

इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने लगभग छह महीने पहले दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के भट्टा परसौल गांव में महिलाओं के साथ कथित बलात्कार के आरोप में राज्य के अर्धसुरक्षा बल यानि पीएसी के एक अधिकारी और 15 जवानों के ख़िलाफ़ सोमवार देर शाम एफ़आईआर यानि प्राथमिकी दर्ज़ कर लिया

दनकौर के थाना प्रभारी अनुज चौधरी ने बताया कि अदालत के दिशा निर्देशों के मुताबिक़ पुलिस ने पीएसी के 16 लोगों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया जिसमें उनके कमांडेंट भी शामिल हैं.

गौतम बुद्धनगर ज़िला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ज्योति नारायण ने बताया कि मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत के दिशा निर्देश के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई है. उन्होंने बताया कि इस मामले में एक पीड़ित ने अदालत में मामला दर्ज किया था उसके बाद यह प्राथमिकी दर्ज की गई है. इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट ने इस मामले पर पुलिस की याचिका ख़ारिज़ कर दी थी.

 

एक महिला ने एक माह पहले जिला अदालत में याचिका दायर कर रिपोर्ट दर्ज कराने की गुहार लगाई थी, जिस पर कोर्ट ने रिपोर्ट दर्ज करने का आदेश दिया था.लेकिन, पुनर्विचार याचिका दायर करने के बाद पुलिस हाईकोर्ट चली गई.

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 20 अक्तूबर को अपने फ़ैसले में पुलिस को फटकार लगाते हुए उनकी याचिका को ख़ारिज कर दिया था और ज़िला अदालत के फ़ैसले को उचित माना था. अदालत ने रिपोर्ट दर्ज करके उसकी एक कापी अदालत को मुहैया कराने का आदेश दिया था.

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है और उसकी कापी अदालत को मुहैया कराई जाएगी.

पुलिस-किसान झड़पें

इस वर्ष मई महीने में किसानों ने राज्य सरकार द्वारा ज़मीन अधीग्रहण किए जाने का विरोध किया था और उनकी पुलिस के साथ झड़प हो गई थी. इस झड़प के दौरान भड़की हिंसा में दो पुलिसकर्मियों समेत चार लोगों की मौत हो गई थी.

पुलिस अधीक्षक(ग्रामीण) राकेश जौली ने बताया कि सात मई को भट्टा परसौल में किसान आंदोलन के दौरान रोडवेज़ के तीन कर्मचारियों का अपहरण कर उन्हें बंधक बना लिया गया था.

जब पुलिस-प्रशासन ने रोडवेज़ कर्मचारियों को मुक्त कराने की कोशिश की तो मामला बढ़ गया, जिसके बाद पुलिस और किसानों के बीच संघर्ष हुआ, जिसमें दो पुलिसकर्मियों के अलावा दो किसानों की जान चली गई थी. रोडवेज़ कर्मियों को तलाशने के लिए तलाशी अभियान चलाया गया था.

कॉग्रेस महासचिव राहुल गांधी 11 मई को जब अचानक भट्टा परसौल पहुंचे तब भी कथित तौर पर महिलाओं ने उनसे बलात्कार की शिकायत कही थी.

लेकिन उस समय राज्य की मायावती सरकार ने राहुल के इन आरोपों को ख़ारिज कर दिया था.


 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.